Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

Auto Industry के अच्छे दिन आने वाले हैं, Nomura ने नए साल में जताई जबरदस्त ग्रोथ की उम्मीद

ग्लोबल रिसर्च फर्म Nomura की एक रिपोर्ट में किया गया है कि वित्त वर्ष 2021-22 में देश के ऑटो इंडस्ट्री में जबरदस्त ग्रोथ देखने को मिलेगी
अपडेटेड Dec 26, 2020 पर 09:08  |  स्रोत : Moneycontrol.com

नए साल में मंदी की मार झेल रहे ऑटोमोबाइल सेक्टर (Automobile sector) के अच्छे दिन आने वाले हैं। यह दावा ग्लोबल रिसर्च फर्म नोमुरा (Nomura) की एक रिपोर्ट में किया गया है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2021-22 में देश के ऑटो इंडस्ट्री में जबरदस्त ग्रोथ देखने को मिलेगी। इसमें कहा गया है कि अगले वित्त वर्ष में ऑटो सेक्टर कोरोना वायरस महामारी के दुष्प्रभावों से रिकवर कर जाएगा और वाहनों की बिक्री जबरदस्त तरीके से बढ़ेगी, खासकर इलेक्ट्रिक वाहनों और टू-व्हीलर्स की बिक्री में शानदार इजाफा होगा। हालांकि, इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि पर्सनल व्हीकल्स की बिक्री के मामले में वर्ष 2018-19 के लेवल तक ऑटो इंडस्ट्री वित्त वर्ष 2022-23 में ही पहुंच पाएगा।

आपको बता दें कि सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (SIAM) के आंकड़ों के मुताबिक, वित्त वर्ष 2017-18 के मुकाबले 2018-19 में पैसेंजर व्हीकल्स की बिक्री 2.7% बढ़कर 33,77,436 यूनिट्स तक पहुंच गई थी, जो पहले  32,88,581 यूनिट्स थी। नोमुरा रिसर्च इंस्टीट्यूट कंसल्टिंग एंड सॉल्यूशंस इंडिया की रिपोर्ट में कहा गया है कि अगले वित्त वर्ष में नए रेगुलेशन के कारण वाहनों खासकर कारों और बाइक की कीमत भी बढ़ सकती है।

टू-व्हीलर सेक्शन में जबरदस्त तेजी आएगी

नोमुरा रिसर्च इंडिया के ग्रुप हेड (बिजनेस) अशीम शर्मा ने कहा, अगले वित्त वर्ष में भारतीय ऑटो इंडस्ट्री कोरोना के भयंकर दुष्प्रभावों से उबर जाएगा और वाहनों की बिक्री में तेजी देखने को मिलेगी। उन्होंने कहा कि देश में इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री में अगले वित्त वर्ष में जबरदस्त तेजी आने की उम्मीद है, खासकर टू-व्हीलर सेक्शन में जबरदस्त तेजी आएगी। इस सेक्शन में ओला इलेक्ट्रिक ( Ola Electric) जैसे कई प्लेयर्स एंट्री कर रहे हैं।

बैटरी की मैन्युफैक्चरिंग में भी तेजी आने की उम्मीद

इसके अलावा नए साल में बैटरी की मैन्युफैक्चरिंग में भी काफी तेजी आने की उम्मीद है। अशीम शर्मा ने कहा कि कई कंपनियां देश में लिथियम टाइटेनियम ऑक्साइड (LTO) आधारित कटिंग-एज टेक्नोलॉजी वाला बैटरी बनाने के लिए विदेशी कंपनियों से साझेदारी कर रही हैं। आपको बता दें कि LTO बैटरी को हाई टेम्परेचर पर फास्ट चार्ज किया जा सकता है और यह 10,000 से अधिक बार वाहनों के पहिये को घुमाने की शक्ति रखता है। इस बैटरी में 80% निकेल, 10% मैंगनीज और 10% कोबाल्ट का इस्तेमाल होता है, जिससे इसकी क्षमता बहुत अधिक बढ़ जाती है।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।