Moneycontrol » समाचार » रुपया और बॉण्ड

क्या लोकसभा चुनावों के बाद गिरने वाला है रुपया?

प्रकाशित Fri, 19, 2019 पर 10:15  |  स्रोत : Moneycontrol.com

2014 के लोकसभा चुनावों के बाद रुपए का जो परफॉर्मेंस रही थी, वो न तो उसके पहले के कुछ सालों में रही थी, न ही बाद के चुनावों में। यहां बात बस चुनावों की हो रही है। पिछले आठ सालों में रुपया 2014 के लोकसभा चुनावों को छोड़कर हर चुनाव के बाद लुढ़का है इसलिए अर्थशास्त्री अनुमान जता रहे हैं कि 2019 के लोकसभा चुनावों के बाद भी रुपया लुढ़केगा।


बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक, इन लोकसभा चुनावों के बाद रुपया कमजोर होगा क्योंकि पिछले कुछ चुनावों के बाद रुपए का परफॉर्मेंस ऐसा ही रहा है। इडलवाईज सिक्योरिटीज प्राइवेट ने पिछले तीन चुनावों में रुपए की स्टडी की है और पाया है कि हर चुनावों के बाद रुपया कमजोर हुआ है।


लेकिन चुनावों के अलावा रुपए के इस गिरावट पर सीजन का भी असर हो सकता है। पिछले नौ सालों में मई महीने के दौरान रुपया आठ पर कमजोर हुआ है। मई का महीना रुपए के परफॉर्मेंस के लिहाज से बहुत अच्छा साबित नहीं हुआ है। इस दौरान में रुपए में सबसे ज्यादा गिरावट 2।2 प्रतिशत तक की दर्ज की गई है।


वैसे, चुनावी सालों में बाहर से कैश का फ्लो बढ़ता है और शेयर में विदेशी दखल भी सकारात्मक ही देखा गया है। लेकिन फिर भी इस बार रुपए के नीचे जाने की आशंकाएं हैं। डच बैंक एजी ने अनुमान जताया है कि रुपया साल के अंत तक डॉलर के मुकाबले 72 रुपए के आंकड़े तक आ जाएगा।


गुरुवार को रुपया डॉलर के मुकाबले मजबूत होकर बंद हुआ है। गुरुवार को रुपए की कीमत डॉलर के मुकाबले 69।36 रही।