Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

दुनिया में भारतीय प्रवासी सबसे ज्यादा, कोने-कोने में बसे हैं कुल 1.75 करोड़ NRIs

भारत 2019 में 1.75 करोड़ की प्रवासी आबादी के साथ अंतरराष्ट्रीय प्रवासियों के मामले में सबसे ऊपर था
अपडेटेड Sep 19, 2019 पर 09:48  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारत 2019 में 1.75 करोड़ की प्रवासी आबादी के साथ अंतरराष्ट्रीय प्रवासियों के मामले में सबसे ऊपर था।


United Nations की ओर से जारी नए अनुमान में यह आंकड़े दिए गए हैं जिसमें कहा गया है कि वैश्विक प्रवासियों यानी अपने देश से बाहर किसी देश में जाकर बसने वाले लोगों की संख्या करीब 27.2 करोड़ पर पहुंच गई है। इनमें भी सबसे बड़ा डायस्पोरा भारतीय प्रवासियों का है।


UN के Economic and Social Affairs (DESA) के Population Devision की ओर से मंगलवार को जारी डेटासेट The International Migrant Stock 2019 में अंतरराष्ट्रीय प्रवासियों की उम्र, लिंग और मूल देश और विश्व के सभी हिस्सों के आधार पर संख्या बताई गई है।


रिपोर्ट में कहा गया कि शीर्ष 10 मूल देशों के प्रवासी सभी अंतरराष्ट्रीय प्रवासियों का एक तिहाई हैं। 2019 में, विदेशों में रहने वाले 1.75 करोड़ लोगों के साथ प्रवासियों की संख्या के मामले में भारत शीर्ष पर था।


इसके बाद दूसरे पायदान पर मेक्सिको (1.18 करोड़), तीसरे पर चीन (1.07 करोड़) फिर रूस (1.05 करोड़), सीरिया (82 लाख), बांग्लादेश (78 लाख), पाकिस्तान (63 लाख), यूक्रेन (59 लाख), फिलीपीन (54 लाख) और अफगानिस्तान (51 लाख) थे।


भारत ने 2019 में 51 लाख अंतरराष्ट्रीय प्रवासियों को देश में जगह दी। हालांकि, यह 2015 के 52 लाख से कम था।


अंतरराष्ट्रीय प्रवासियों को अपने यहां जगह देने वाले देशों में सबसे ऊपर यूरोप और उत्तरी अमेरिका हैं।


रिपोर्ट में पाया गया कि 2019 में यूरोप में 8.2 करोड़ और उत्तरी अमेरिका में 5.9 करोड़ प्रवासी रह रहे थे। साथ ही इसमें पाया गया कि 2010 के मुकाबले 2019 में प्रवासियों की संख्या 5.1 करोड़ हो गई जो 23 प्रतिशत की वृद्धि दिखाती है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।