Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

जम्मू-कश्मीर में Domicile certificate के नियम तय, सरकार ने जारी किया नोटिफिकेशन

जम्मू-कश्मीर में 15 साल तक निवास करने वाले व्यक्ति या फिर सात साल तक पढ़ाई करने वाले को भी डोमिसाइल सर्टिफिकेट जारी किया जाएगा
अपडेटेड May 20, 2020 पर 08:06  |  स्रोत : Moneycontrol.com

जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) सरकार ने केंद्र शासित प्रदेश के तहत किसी भी पद पर नियुक्ति के लिए डोमिसाइल प्रमाणपत्र (Domicile certificate) जारी करने की प्रक्रिया के नियमों का नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है। डोमिसाइल को मूल निवासी प्रमाण पत्र भी माना जाएगा। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 309 के तहत अधिकार और जम्मू-कश्मीर नागरिक सेवा अधिनियम, 2010 के नियमों के तहत डोमिसाइल सर्टिफिकेट जारी किया जाएगा।


डोमिसाइल सर्टिफिकेट (प्रोसीजर) रूल्स, 2020 के जम्मू –कश्मीर ग्रांट के मुताबिक, वेस्ट पाकिस्तान, वाल्मीकियों, बाहरी लोगों से शादी करने वाली महिलाओं, गैर रजिस्टर्ड कश्मीरी प्रवासियों, विस्थापित लोगों को डोमिसाइल देने के लिए पात्र माना जाएगा। जम्मू-कश्मीर के सभी स्थाई निवासियों को डोमिसाइल सार्टिफिकेट दिया जाएगा। डोमिसाइल प्रमाणपत्र के लिए जो भी व्यक्ति तय शर्तें पूरी करेगा, उसे सक्षम प्राधिकारी (designated authority ) प्रमाणपत्र जारी करेगा। राज्य में जो भी व्यक्ति प्रवासी के तौर पर रजिस्टर्ड है उसे डोमिसाइल के रूप में माना जाएगा। इसमें कहा गया है राज्य के मूल निवासी, विस्थापित व्यक्ति, प्रवासी और उनके वंशज जो जम्मू कश्मीर में राहत और पुनर्वास कमिश्नर (Relief and Rehabilitation Commissione) में प्रवासियों के सात रजिस्टर्ड नहीं है, उन्हें डोमिसालइल सार्टिफिकेट दिया जा सकता है। इससे कश्मीरी पंडितों एक बार फिर से अपने राज्य में वापसी करने का मौका मिलेगा। इसमें बड़ी बात यह है कि आवेदन के बाद संबंधित अधिकारी को सिर्फ 15 दिन में डोमिसाइल प्रमाणपत्र बनाकर देना होगा। अगर आवेदक को 15 दिन में सार्टिफिकेट नहीं मिलता है तो अपीलीय अधिकारी (appellate authority) के पास जाने के लिए स्वतंत्र है।  appellate authority का आदेश डोमिसाइल सार्टिफिकेट जारी करने वाले अधिकारी के लिए अनिवार्य होगा। उसे 7 दिन के भीतर जारी करना पड़ेगा। अगर नहीं जारी हुआ तो 50,000 रुपये जुर्माना भरना पड़ेगा।


जम्मू-कश्मीर में 10 साल तक सर्विस करने वाले सेंट्रल गर्वनमेंट के सरकारी कर्मचारियों के बच्चे, डोमिसाइल के पात्र होंगे। राज्य में 15 साल तक निवास करने वाले व्यक्ति या फिर सात साल तक पढ़ाई करने वाले को भी डोमिसाइल सर्टिफिकेट (Domicile certificate) जारी किया जाएगा। प्रदेश में पढ़ाई करने वाले के लिए शर्त यह है कि संबंधित व्यक्ति ने जम्मू-कश्मीर के शिक्षण संस्थानों से कक्षा 10 वीं या 12 वीं की परीक्षा भी दी हो।


जम्मू कश्मीर सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल (Rohit Kansal) ने कहा कि जम्मू कश्मीर सिविल सेवा (Jammu and Kashmir Civil Services) एक्ट 2010 में संशोधन के बाद केंद्रशासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के तहत किसी भी पद पर नियुक्ति के लिए डोमिसाइल सार्टिफिकेट जरूरी है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें