Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

नक्शे पर बदल गया जम्मू-कश्मीर, J&K और लद्दाख आज से बन गए केंद्रशासित प्रदेश

5 अगस्त को आर्टिकल 370 हटने और राज्य को दो हिस्सों में बांटने के बाद आज से बाइफर्केशन प्रभाव में आ गया
अपडेटेड Oct 31, 2019 पर 17:28  |  स्रोत : Moneycontrol.com

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को आज 31 अक्टूबर 2019 को केंद्रशासित प्रदेश का दर्जा मिल गया। पिछले 72 सालों से एक एक ही राज्य के हिस्सा रहे दोनों क्षेत्र अब केंद्रशासित प्रदेश बन गए हैं। आज रात 12 बजे से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख यूनियन टेरिटरी बन गए हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बुधवार देर रात नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। दोनों को केद्रशासित प्रदेश का दर्जा सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के दिन किया गया। सरदार वल्लभ भाई पटेल देश के पहले गृहमंत्री थे, जिन्होंने 560 से ज्यादा रियासतों का विलय किया था। अब देश में कुल राज्यों की संख्या 28 रह गई, जबकि केंद्रशासित प्रदेशों की संख्या 9 हो गई। 


अब इन दोनों केंद्रशासित प्रदेशों में रणबीर कानून की जगह Indian Penal Code (IPC) और Criminal Procedure Code (CRPC)  की धाराएं लागू होंगी। जम्मू-कश्मीर में सरकारी कामकाज की भाषा अब ऊर्दू की जगह हिंदी हो जाएगी। जम्मू-कश्मीर का अब कोई अलग से झंडा नहीं होगा और न ही अलग से कोई संविधान होगा। 


वहीं केंद्र सरकार ने साफ तौर पर कहा है कि राज्य के सरकारी कर्मचारी कुछ महीने तक पुरानी व्यवस्था के तहत काम करेंगे। दरअसल मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 और 35A  हटा दिया है, जिससे विशेष राज्य का दर्जा खत्म हो गया। इस नई व्यवस्था के मुताबिक जम्मू-कश्मीर में पुडुचेरी जैसी विधायिका होगी, जबकि लद्दाख बिना विधायिका के चंडीगढ़ जैसा होगा।


केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में गिरीश चंद्र मुर्मू और लद्दाख में आर. के. माथुर को उपराज्यपाल नियुक्त किया है, जोकि आज से ही अपना कामकाज संभाल लेंगे।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।