Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

जानिए दूसरे देशों के मुकाबले भारत में कोरोना वायरस प्रसार की क्या है स्थिति

महाराष्ट्र, तमिलनाडु और तेलंगाना में पिछले दो दिनों में कोरोना वायरस संक्रमित लोगों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है
अपडेटेड Apr 08, 2020 पर 09:22  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस महामारी की जंग से पूरी दुनिया जूझ रही है। भारत भी इस महामारी के जाल में तेजी से फंसता नजर आ रहा है। हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक, कल शाम को जो आंकड़े जारी के थे, उसके मुताबिक, भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 39 फीसदी बढ़कर 4281 हो गई है। जबकि उसके पिछले 48 घंटों में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 48 फीसदी बढ़त के साथ 3072 रही थी। अब तुलानात्मक रूप से देखें तो देश में पिछले 48 घंटों में कोरोना वायरस के दर में कमी आई है। 


पिछले हफ्ते भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है। अमेरिका में जिस तरह से कोरोना वायरस की सुनामी आई है। भारत उसके मुकाबले काफी बेहतर स्थिति में हैं। फिर भी यह सिंगापुर और जापान जैसे एशियाई देशों के मुकाबले काफी ज्यादा है। दोनों देशों ने शुरुआती दौर में ही स्क्रीनिंग और टेस्टिंग पर खास तौर से ध्यान दिया। फिर भी ऐसा लगता है कि इन देशों कोरोना वायरस का फिर से दौर आ सकता है। लिहाजा इन्हें लापरवाही बरतने की जरूरत नहीं है। अभी इन्हें और काम करना होगा।


भारत में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 4000 पार कर गई है। वहीं अमेरिका में सबसे अधिक कोरोना संक्रमित लोग हो गए हैं। कोरोना वायरस के चलते सिंगापुर ने एक महीने का लंबा लॉकडाउन की घोषणा कर दी है और जापान भी भी अब इस पर विचार कर सकता है।


भारत में 21 दिन का लॉकडाउन घोषित किया है। उसका आज 14वां दिन है। लॉकडाउन घोषित होने के बावजूद भी कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। भारत में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या जो 4 दिन पहले थी, अब वो डबल हो गई है। अगर ऐसे ही हालात रहें तो अगले पांच दिनों में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 10,000 तक बढ़ सकती है। अगर इसी स्पीड से कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या में इजाफा होता गया है तो अगले कुछ ही महीनों में भारत के अस्पतालों में इसके इलाज करने में मुश्किलें आ सकती हैं।


लॉकडाउन के चलते स्थानीय स्तर पर कोरोना के संक्रमण को फैलने में जरूर कम हुआ है। हालांकि अभी इसके मामले बढ़ते जा रहे हैं। लॉकडाउन का पूरा असर कुछ हफ्तों के बाद ही देखने को मिलेगा। अगर कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान करने और उन्हें क्वारंटीन करने के लिए लॉकडाउन को सही तरीके से इस्तेमाल किया जाता है, तो इससे आने वाले हफ्तों में इस कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या कम करने में मदद मिल सकती है। अगर ऐसा नहीं किया तो लॉकडाउन खत्म होने के बाद कोरोना संक्रमित मामले बढ़ सकते हैं।


देश में कोरोना वायरस की मार सबसे अधिक महाराष्ट्र में पड़ी है। यहां सबसे अधिक कोरोना संक्रमित लोग पाए गए हैं। अब तक महाराष्ट्र में 748 मामले सामने आ चुके हैं। मुंबई के दो पॉस इलाके कोरोना वायरस के चलते सील कर दिए गए हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि महाराष्ट्र में अभी और मामले सामने आ सकते हैं।


देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में तमिलनाडु दूसरे नंबर में हैं। यहां 571 मामले सामने आ चुके हैं। इसके बाद दिल्ली में 523 मामले सामने आए हैं। इसके बाद उत्तर प्रदेश चौथे नंबर में फिर इसके बाद तेलंगाना की बारी आती है। टॉप 5 प्रदेशों के 59 फीसदी सक्रिय मामले राष्ट्रीय स्तर पर हैं। पहले जहां दूसरे नंबर में केरल रहता था। अब वो नहीं है।


सोमवार को प्रकाशित पब्लिक हेल्थ रिसर्चर्स के स्टडी ने बताया कि केरल, गोवा. राजस्थान, दिल्ली और चंडीगढ़ अन्य राज्यों के मुकाबले टेस्ट करने में ज्यादा तेजी दिखाई है। ब्रिटिश मेडिकल जर्नल ब्लॉग (British Medical Journal blog) के मुताबिकस मध्य प्रदेश, बिहार, पंजाब, पश्चिम बंगाल और गुजरात जैसे राज्यों में कोरोना टेस्टिंग रेट कम है, यहां मृत्यु दर अधिक है। कम टेस्ट होने के चलते कई मामले शुरुआती दौर में ही छूट गए।


उत्तर पूर्व के 4 राज्यों मणिपुर, मिजोरम, असम अरुणाचल प्रदेश में कोरोना संक्रमित मामले सामने आए हैं। जबकि अन्य उत्तर पूर्वी राज्यों में अब कोई कोरोना संक्रमित मामले सामने नहीं आए हैं। पिछले दो दिनों में महाराष्ट्र और तमिलनाडु में सक्रिय मामलों की संख्या में सबसे अधिक वृद्धि देखी गई है। इन दो दिनों में राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय मामलों की संख्या में 35 फीसदी इजाफा हुआ है। तेलंगाना इन दो दिनों में तीसरे नंबर में रहा।


भारत समेत पूरी दुनिया में अब तक 1.3 मिलियन से अधिक लोग कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं। दुनिया के कई देशों ने कोरोना वायरस से निपटने के ले लॉकडाउन का सहारा लिया है। कोरोना वायरस के प्रकोप से अब तक पूरी दुनिया में 74,774 लोगों की मौत हो चुकी है। सबसे अधिक मौत इटली में हुई जहां 16,523 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। इसके बाद स्पेन में 13,341 लोगों की मौत हुई है। इन देशों ने मौत के आंकड़ों में चीन को भी पछाड़ दिया है। जहां कोरोना वायरस की उत्पत्ति हुई थी। चीन में 3,335 लोगों की मौत हुई थी। चीन ने भले ही कोरोना वायरस पर काबू पा लिया हो, लेकिन अन्य देशों को अब इसका सामना करना पड़ रहा है।


कोरोना वायरस के मामले में यूरोप ने चीन को भी पछाड़ दिया है। लेकिन पिछले कुछ दिनों में नए मामलों में कुछ गिरावट देखी गई। अमेरिका में 3,68,079 संक्रमित मामले सामने आए हैं। जिनमें से 10,923 लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में अब तक 111 लोगों की मौत हुई है। भारत में टेस्टिंग रेट बहुत कम है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook(https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।