Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

Moody's ने भी घटाया भारत के GDP ग्रोथ रेट का अनुमान, 2019 में 5.6% का फोरकास्ट

मूडीज़ ने 2019 के लिए जीडीपी ग्रोथ रेट का अनुमान घटाकर 5.6 फीसदी कर दिया है, जो 2018 के 7.4 फीसदी से कम है
अपडेटेड Dec 14, 2019 पर 14:05  |  स्रोत : Moneycontrol.com

रेटिंग एजेंसी मूडीज़ इन्वेस्टर सर्विसेज (Moodys Investor Services) ने शुक्रवार को भारत के सकल घरेलू उत्पाद (Gross Domestic Product) की ग्रोथ रेट घटा दी। मूडीज़ ने अब 2019 के लिए भारत की जीडीपी 5.6 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है। मूडीज़ ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि भारत में रोजगार की धीमी वृद्धि दर का उपभोग पर असर पड़ रहा है।


मूडीज़ ने कहा कि उसने भारत के लिए जीडीपी ग्रोथ रेट का अनुमान घटाकर 5.6 फीसदी कर दिया है, जो 2018 के 7.4 फीसदी से कम है।


इस रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत की आर्थिक वृद्धि दर 2018 के मध्य से धीमी पड़ी हुई है और इस साल वास्तविक जीडीपी ग्रोथ पहली तिमाही में आठ फीसदी से पांच फीसदी पर आ गई, जो दूसरी तिमाही में गिरकर 4.5 फीसदी पर आ चुकी है।


हालांकि, मूडीज़ ने 2020 में ग्रोथ रेट में सुधार होने का अनुमान भी जताया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2020 में ग्रोथ रेट 6.6 फीसदी और 2021 में ग्रोथ रेट 6.7 फीसदी रह सकती है।


मूडीज ने कहा कि कॉरपोरेट टैक्स की दरों में कटौती, बैंकों का पुनर्पूंजीकरण, बुनियादी इंफ्रा पर खर्च की योजनाएं, ऑटो और दूसरी इंडस्ट्रीज को समर्थन जैसे सरकार के उपायों से उपभोग की मांग की समस्या प्रत्यक्ष तौर पर दूर नहीं हुई है।


इसके अलावा, रिजर्व बैंक की ओर से नीतिगत दर में की गई कटौती का लाभ बैंकों ने पर्याप्त तरीके से उपभोक्ताओं तक आगे नहीं बढ़ाया है।


आर्थिक सुस्ती और फाइनेंशियल सेक्टर क्षेत्र में लिक्विडिटी क्राइसिस के कारण कॉमर्शियल गाड़ियों की बिक्री वित्त वर्ष 2019-20 के पहले छह महीनों में 22.95 प्रतिशत कम हुई है।



सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।