Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

मूडीज ने कहा, FY-2021 में 0% रह सकती है भारत की GDP ग्रोथ

मूडीज ने नवंबर 2019 में इंडिया की रेटिंग डाउनग्रेड करते हुए स्टेबल से नेगेटिव किया था, फिलहाल सुधरने का चांस नहीं
अपडेटेड May 09, 2020 पर 13:25  |  स्रोत : Moneycontrol.com

मूडीज (Moodys) इनवेस्टर्स सर्विस ने शुक्रवार को बताया कि फिस्कल ईयर 2021 में भारत की GDP ग्रोथ ज़ीरो फीसदी रह सकती है। हालांकि इसके बाद ग्रोथ में सुधार आएगा और फिस्कल ईयर 2022 में GDP की ग्रोथ 6.6 फीसदी रहने का अनुमान है। रेटिंग एजेंसी ने संकेत दिया कि फिलहाल  "Baa2 नेगेटिव" रेटिंग में अपग्रेड की कोई सूरत नजर नहीं आ रही है। कोरोनावायरस संकट के कारण देशभर में 25 मार्च से लॉकडाउन लागू है। आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह ठप हैं जिसकी वजह से GDP की ग्रोथ कमजोर हुई है।


मूडीज ने शुक्रवार को अपनी एक रिपोर्ट में लिखा है, "नेगेटिव आउटलुक से साफ है कि आर्थिक गतिविधियां काफी कमजोर हो चुकी हैं। कोरोनावायरस संक्रमण की वजह से लॉकडाउन है और कामकाज रुका हुआ है जिससे संस्थागत कमजोरी बढ़ गई है। इससे कंपनियों पर कर्ज का बोझ बढ़ गया है।"


मूडीज ने नवंबर 2019 में इंडिया की रेटिंग डाउनग्रेड करते हुए स्टेबल से नेगेटिव कर दिया था। कमजोर आर्थिक ग्रोथ की वजह से इंडिया की रेटिंग डाउनग्रेड हुई थी। मूडीज ने उस वक्त "Baa2" रेटिंग दी थी।


जानिए क्या है इस रेटिंग का मतलब?


"Baa2" रेटिंग में से a2 इकोनॉमिक स्ट्रेंथ के लिए है। जबकि baa3 इंस्टीट्यूशनल और गवर्नेंस स्ट्रेंथ के लिए माना जाता है। b1 के मायने फिस्कल स्ट्रेंथ और ba का मतलब सस्पेक्टबिलिटी से जोखिम से है। रेटिंग एजेंसी का मानना है कि फिस्कल ईयर 2020 में  डेफेसिट GDP का 5 फीसदी रह सकता है। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।