Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

नीरव मोदी केस : वीडियो लिंक के जरिए नीरव मोदी की हुई पेशी, 28 दिन की बढ़ी हिरासत

भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की हिरासत की अवधि 19 सितंबर तक बढ़ा दी गई है।
अपडेटेड Aug 22, 2019 पर 16:25  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की हिरासत अवधि ब्रिटेन की अदालत ने 19 सितंबर तक बढ़ा दी है। नीरव मोदी तकरीबन 2 अरब डॉलर की बैंक धोखाधड़ी के मामले में भारत में वांछित है।


दरअसल, बिटेन के कानून के मुताबिक, उसे हर चार हफ्ते के बाद हिरासत की अवधि बढ़ाने के लिए अदालत में पेश किया जाता है। नीरव को मार्च में गिरफ्तार किया गया था। तब से वैंड्सवर्थ जेल में बंद है।
लंदन की वेस्टमिंस्टर अदालत में वीडियो लिंक के जरिए गुरुवार को जेल से ही नीरव की पेशी हुई। इससे पहले पिछली पेशी में वीडियो लिंक के जरिए हुई सुनवाई में चीफ जस्टिस एम्मा अर्बथनॉट ने संकेत दिया था कि दोनो पक्ष प्रत्यर्पण के लिए जल्द ही समहत हो सकते हैं।


ब्रिटेन की अदालत ने नीरव मोदी की जमानत याचिका को कई बार खारिज कर चुकी है। नीरव की जमानत अर्जी 4 बार खारिज हो चुकी। आखिरी बार यूके हाईकोर्ट ने पिछले महीने नामंजूर की थी। जस्टिस इनग्रिड सिमलर ने कहा था कि इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि नीरव गवाहों को प्रभावित कर सकता है। वह फरार हो सकता है। इस बार नीरव मोदी की चौथी जमानत याचिका थी। 


बता दें, पंजाब नेशनल बैंक से हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने 1.77 अरब डॉलर (करीब 11,400 करोड़ रुपये) का घोटाला किया। करोड़ों रुपये घोटाले में भारतीय एजेंसियां नीरव मोदी के प्रत्यर्पण की कोशिश में जुटी हुई हैं। नीरव मोदी ने कथित रूप से बैंक की मुंबई शाखा से फ़र्ज़ी गारंटी पत्र (एलओयू) हासिल कर अन्य भारतीय ऋणदाताओं से विदेशी ऋण हासिल किया। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।