Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

निर्भया के दो दोषियों की Curative Petition खारिज, फांसी का रास्ता साफ

निर्भया गैंगरेप केस में दो दोषियों के क्यूरेटिव पिटिशन (Curative Petition) सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी है।
अपडेटेड Jan 15, 2020 पर 09:09  |  स्रोत : Moneycontrol.com

सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया गैंग रेप मामले में दोषी विनय शर्मा और मुकेश द्वारा दायर क्यूरेटिव पिटीशन (समीक्षा याचिका) खारिज कर दी है। कोर्ट ने कहा कि दोषियों की पहले दायर की गई पुनर्विचार याचिका और क्यूरेटिव पिटिशन में खास अंतर नहीं है। साथ ही इस याचिका में ऐसे कुछ खास नहीं है, जिसे संज्ञान में लिया जाए। यह कहते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मुकेश और विनय की क्यूरेटिव पिटिशन खारिज कर दी।


फिलहाल दोषियों के पास अब राष्ट्रपति के पास दया याचिका का विकल्प बचा है। जिसमें फांसी की सजा को उम्रकैद की सजा में बदलने की अपील की जा सकती है।


इससे पहले पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया गैंगरेप केस के चारों दोषियों का डेथ वारंट जारी किया था। कोर्ट ने इस मामले में चार दोषियों को 22 जनवरी की सुबह सात बजे फांसी देने का समय तय किया है। बीते दिनों तिहाड़ जेल में डमी ट्रायल भी किया गया। दोषियों को उत्तर प्रदेश का पवन जल्लाद फांसी के फंदे पर लटकाएगा।


बता दें कि 16 दिसंबर, 2012 को निर्भया के साथ बेहरमी से गैंगरेप किया गया था। जिसमें निर्भया को गंभीर चोटें आईं थी। निभया का इलाज सिंगापुर में किया गया। जहां इलाज के दौरान 29 दिसंबर को सिंगापुर के Mount Elizabeth Hospital में मौत हो गई थी। इसके बाद सभी छह आरोपियों को गिरफ्तार कर दुष्कर्म और हत्या का मामला दर्ज किया गया था। आरोपियों में से एक नाबालिग था, जोकि एक किशोर (जुवेनाइल) अदालत के सामने पेश किया गया। वहीं एक अन्य आरोपी ने तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली थी। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।