Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

घाटी में मुहर्रम का जुलूस निकालने की इजाजत नहीं, श्रीनगर में कर्फ्यू जैसी सुरक्षा व्यवस्था

एक सीनियर सरकारी अधिकारी ने बताया कि प्रशासन ने पहले की घटनाओं को देखते हुए मुहर्रम में जुलूस निकालने की मंजूरी नहीं दी गई है
अपडेटेड Sep 10, 2019 पर 14:24  |  स्रोत : Moneycontrol.com

श्रीनगर में मंगलवार को स्थानीय प्रशासन ने कर्फ्यू लगा दिया है। घाटी में मुहर्रम का जुलूस निकालने की इजाजत नहीं दी गई है। पुलिस ने श्रीनगर की तरफ जाने वाली सभी सड़कों को बंद कर दिया है। साथ ही सुरक्षा व्यवस्था और पुख्ता कर दिया है। जिन इलाकों में शिया समुदाय का दबदबा है वहां सुरक्षा व्यवस्था कर्फ्यू की तरह तैनात है।


इससे पहले जम्मू-कश्मीर के प्रशासन ने कहा था कि मुहर्रम का जुलूस निकालने की इजाजत नहीं दी जाएगी। मस्जिदों में जाकर नमाज पढ़ने की मंजूरी है। इंडिया टुडे के मुताबिक, एक सीनियर सरकारी अधिकारी ने बताया कि प्रशासन ने पहले की घटनाओं को देखते हुए मुहर्रम में जुलूस निकालने की मंजूरी नहीं दी गई है। मुहर्रम में शिया समुदाय के लोग 10 दिनों तक शोक मनाते हैं। यह 1 सितंबर को शुरू हुआ था और आखिरी दिन यानी 10 सितंबर को मुहर्रम मनाया जाता है।


1990 से ही कश्मीर में मुहर्रम का जुलूस निकालने की इजाजत नहीं दी गई थी। यह वही दौर था जब घाटी में आतंकवाद शुरू हुआ था। मुहर्रम की वजह से प्रशासन ने पूर्व मंत्री इमरान अंसारी सहित सभी शिया नेताओं को सेंटॉर होटल से उनके घर में नजरबंद करने की इजाजत दी है। जम्मू-कश्मीर से 5 अगस्त को आर्टिकल 370 हटाया गया था। उसके बाद से ही स्थानीय नेता नजरबंद हैं।
  
सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।