Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

Abhijit Banerjee और Esther Duflo के पहले Noble Prize जीत चुके हैं यह 5 जोड़े

ऐसा पहली बार नहीं है, जब किसी पति-पत्नी को नोबल से सम्मानित किया गया हो
अपडेटेड Oct 15, 2019 पर 17:28  |  स्रोत : Moneycontrol.com

सोमवार को रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज की Noble Committee ने भारतीय-अमेरिकी इकोनॉमिस्ट अभिजीत बनर्जी और उनकी पत्नी एस्टर डुफ्लो को Economic Sciences के लिए Noble Prize दिया गया। दोनों को डेवलपमेंट इकोनॉमिक्स में, खासतौर पर दुनियाभर में गरीबी हटाने को लेकर उनके एक्सपेरिमेंटल अप्रोच के चलते इस पुरस्कार के लिए चुना गया है। इनके साथ संयुक्त रूप से माइकल क्रेमर को भी नोबल के लिए चुना गया है।


ऐसा पहली बार नहीं है, जब किसी पति-पत्नी को नोबल से सम्मानित किया गया हो। 1895 में नोबल पुरस्कार की शुरुआत के बाद से अब तक पांच जोड़ों को इस सम्मान से सम्मानित किया जा चुका है। अभिजीत बनर्जी और एस्टर डफ्लो इस लिस्ट में छठे नंबर पर हैं।


Marie and Pierre Curie


मैरी क्यूरी फिजिक्स की दुनिया में बड़ा नाम हैं। उन्हें और उनके पति पियरे क्यूरी को 1903 में फिजिक्स में हेनरी बैकेरल की रेडिएशन फिनॉमिना की स्टडी के लिए मिला था। मैरी क्यूरी को 1911 में केमेस्ट्री में रेडियोएक्टिविटी पर उनके काम के लिए दूसरा नोबल भी मिला था।


Irène Joliot-Curie and Frédéric Joliot


मैडम क्यूरी की बेटी आइरीन क्यूरी और उनके पति फ्रेडरिक जोलियट को 1935 में आर्टिफिशयल रेडियोएक्टिविटी की खोज करने के लिए केमेस्ट्री का नोबल दिया गया था। फ्रेडरिक मैडम क्यूरी के रेडियम इंस्टीट्यूट में 1924 में उनके असिस्टेंट बनकर काम करने आए थे और 1926 में आइरीन से उनकी शादी हो गई।


Gerty Cori and Carl Cori


गर्टी कोरी और कार्ल कोरी को 1947 में मेडिकल का नोबल मिला था। यह अवॉर्ड उन्हें ग्लाइकोजन और ग्लूकोज मेटाबॉलिज्म पर उनके रिसर्च के लिए मिला था। मेडिकल स्कूल से ही दोनों एक साथ काम करते रहे। उनका काम मुख्य तौर पर हॉर्मोन्स और एन्जाइम्स के कोऑपरेशन पर के रिसर्च पर बेस्ड था।


Alva and Gunnar Myrdals


एल्वा और गन्नार मर्डल्स को अलग-अलग फील्ड में उनके योगदान के लिए अलग सालों में नोबल मिला था। गन्नार को 1974 में इकोनॉमिक साइंसेज का नोबल मिला तो एल्वा को 1982 में परमाणु प्रसार के खिलाफ किए गए उनके कामों के लिए नोबल के पीस प्राइज से सम्मानित किया गया।


May-Britt and Edvard Moser


मे-ब्रिट और एडवर्ड मोज़र को 2014 में मेडिसिन का नोबल दिया गया था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।