Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

करतारपुर कॉरिडोर पर पाक ने लिया यू टर्न, आर्मी ने कहा कि पासपोर्ट है जरूरी

पाक आर्मी प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा है कि करतारपुर आने वाले सिख श्रद्धालुओं के पास पार्सपोर्ट होना जरूरी है।
अपडेटेड Nov 07, 2019 पर 16:12  |  स्रोत : Moneycontrol.com

हमेशा पलटी मारने वाले पाकिस्तान ने करतारपुर कॉरिडोर मामले में एक बार फिर से पलटी मार दी है। पाकिस्तान के इस यू-टर्न से भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को चौकन्ना रहने की खास जरूरत है। करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन शनिवार 9 नवंबर को होगा। जिस पर पाक आर्मी ने बयान दिया है कि सिख तीर्थ यात्रियों को पासपोर्ट जरूरी है।


करतारपुर कॉरिडोर को शुरु करने से पहले 1 नवंबर को पाक पीएम इमरान खान ने कहा था कि भारतीय सिख श्रद्धालुओं को करतारपुर कॉरिडोर आने के लिए पासपोर्ट की कोई आवश्यकता नहीं है। बल्कि एक वैलिड आईडी (पहचान पत्र) की जरूरत पड़ेगी। दूसरी बार पाक पीएम ने एक ट्वीट में कहा कि सिखों को करतारपुर कॉरिडोर आने के लिए 10 दिन पहले रजिस्ट्रेशन कराने की आवश्यकता नहीं है। खान ने ये भी कहा था कि 9 नवंबर को होने वाले उद्घाटन समारोह में आने वाले श्रद्धालुओं से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। बता दें कि शनिवार 9 नवंबर को गुरुनानक देव जी की 550वीं जयंती है। जिसे प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है।


लेकिन अब इस मामले में पाकिस्तान आर्मी ने इमरान खान के बयान से बिल्कुल उल्टा बयान दिया है। पाक आर्मी प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा है कि करतारपुर आने वाले सिख श्रद्धालुओं के पास पार्सपोर्ट होना जरूरी है।


दरअसल भारत पाकिस्तान से पूछा था कि करतारपुर साहिब के लिए पासपोर्ट की जरूरत पड़ेगी या नहीं? भारत के इस सवाल का जवाब देते हुए पाकिस्तान ने साफ कर दिया है कि करतारपुर कॉरिडोर आने वाले श्रद्धालुओं के लिए पासपोर्ट जरूरी होगा।


बता दें कि करतारपुर कॉरिडोर भारत के पंजाब स्थित डेरा बाबा नानक को पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के नारोवाल जिले में स्थित करतारपुर के दरबार साहिब से जोड़ेगा। यह गुरुद्वारा अंतरराष्ट्रीय सीमा से महज चार किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।