Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

आपकी गाड़ी में लगा है FasTag फिर भी लग सकता है डबल जुर्माना, जानिए क्यों?

अगर आपकी गाड़ी में FasTag लगा है और वो रिचार्च नहीं है या इनवैलिड है तो दोगुना जुर्माना लगेगा
अपडेटेड May 18, 2020 पर 09:02  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अगर आपकी गाड़ी में फास्टैग (FasTag) लगा हुआ है, और उसे आपने रिचार्ज नहीं कराया या वो किसी कारण से इनवैलिड या अमान्य है तो सबसे पहले आप अपनी गाड़ी में लगे FasTag को ठीक करा लें। क्योंकि FasTag में किसी भी तरह की खामियां पाए जाने पर आपको डबल जुर्माना भरना पड़ सकता है। सरकार ने तय किया है कि यदि किसी मोटर वाहन का FasTag सही नहीं चल रहा है और वो फास्टैग लेन में जाता है तो फिर उस वाहन पर लगने वाले टोल फी की दोगुनी (Double penalty fastag) राशि वसूल की जाएगी। केंद्र सरकार ने इस पर एक नोटिफिकेशन जारी कर दिया है।


सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय (Ministry of Road Transport and Highways)  ने नेशनल हाइवेज फी (National Highways Fee Determination of Rates and Collection) रूल्स, 2008 में संशोधन को लेकर नोटिफिकेशन जारी किया है। इस नोटिफिकेशन के मुताबिक, अगर आप बिना फास्टैग लगे वाहन के साथ टोल प्लाजा पर फास्टैग लेन में घुस जाते हैं, तब तो आपको व्हीकल कैटेगरी के मुताबिक दोगुना टोल देना होगा। साथ ही अगर आपके वाहन में फास्टैग लगा है लेकिन वह काम नहीं कर रहा है या इनवैलिड है, ऐसी स्थिति में भी आपको दोगुना टोल भरना होगा। इस संशोधन से पहले केवल बिना फास्टैग लगी गाड़ी के साथ टोल प्लाजा की फास्टैग लेन में घुसने पर ही दोगुना टोल देना होता था।


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक फास्टैग को अनिवार्य किये हुए महीनों बीत गए लेकिन लोग अभी भी इसे सीरियसली नहीं ले रहे हैं। ऐसे कई मामले सामनेआ हैं जिसमें कार या अन्य मोटर वाहन पर फास्टैग लगा है, लेकिन उसमें पर्याप्त बैलेंस नहीं है। ऐसे वाहन फास्टैग वाले लेन में घुसते हैं और टोल पर रूक कर नकद में शुल्क चुकाते हैं। लिहाजा बेवजह देरी होती है और फास्टैग लेन में भी लंबी लाइन लग जाती है। कुछ मामले ऐसे भी सामने आए कि फास्टैग खराब हो गए हैं या उसे मोड़ दिया गया है जिससे उसका सर्किट ब्रेक हो गया है। ऐसे फास्टैग ठीक से काम नहीं करते। यदि किसी वाहन में ऐसा पाया जाता है तो उस पर भी दो गुना जुर्माना देना होगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें