Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

20 लाख करोड़ का पैकेज: पाकिस्तान के GDP के बराबर है भारत सरकार का यह पैकेज

देश के टॉप 10 सबसे अमीर शख्स के टोटल वेल्थ का करीब दोगुना है यह पैकेज
अपडेटेड May 13, 2020 पर 17:00  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने अब तक के सबसे बड़े राहत पैकेज का ऐलान किया है। आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत 20 लाख करोड़ रुपए उन लोगों और कंपनियों पर खर्च किया जाएगा जिनकी जिंदगी कोरोनावायरस संक्रमण की वजह से बेपटरी हो गई है। एनालिस्ट्स का मानना है कि इस पैकेज में MSMEs (छोटो-मझोले उद्योग)  को लोन माफी, खर्च बढ़ाने, GST के रेट घटाने और MSMEs को इंसेंटिवाइज लेंडिंग सुनिश्चित किया जाएगा।


सरकार ने 20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज का ऐलान किया है जो देश की GDP का करीब 10 फीसदी है। यह रकम कितनी बड़ी है इसका अंदाजा लगाने के लिए इसकी तुलना कुछ दूसरे नंबरों से की जा रही है।


पाकिस्तान की GDP के बराबर


20 लाख करोड़ रुपए डॉलर के हिसाब से 266 अरब डॉलर रुपए होता है। यानी यह वियतनाम, पुर्तगाल, ग्रीस, न्यूजीलैंड और रोमानिया जैसे 149 देशों के GDP से ज्यादा है। यह पाकिस्तान के सालाना GDP के लगभग बराबर है। पाकिस्तान की GDP 284 अरब डॉलर है।


टॉप 10 अरबपतियों की कुल वेल्थ का दोगुना


ब्लूमबर्ग के बिलिनेयर इंडेक्स के मुताबिक, देश के टॉप 10 सबसे अमीर शख्स की वेल्थ करीब 147 अरब डॉलर है। जबकि पीएम का राहत पैकेज इससे 1.8 गुना बड़ा है।


जेपी मॉर्गन और मास्टर कार्ड के मार्केट कैप के बराबर


कोरोनावायरस के खिलाफ सरकार ने इतना बड़ा राहत पैकेज दिया है जो जेपी मॉर्गन चेस और मास्टर कार्ड के मार्केट कैप के बराबर है। इतना ही नहीं, इंटेल, वेरिजॉन, कोकाकोला और फाइजर जैसी कंपनियों की वैल्यू इस राहत पैकेज से कम है।


BSE की मार्केट वैल्यू का 20 फीसदी


यह पैकेज BSE पर लिस्टेड शेयरों के मार्केट वैल्यू का 20 फीसदी है। मंगलवार को कारोबार बंद होने के बाद BSE पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप 121 लाख करोड़ रुपए था। 


विनिवेश टारगेट का 10 गुना


फिस्कल ईयर 2021 में भारत ने आक्रामक विनिवेश या डिसइनवेस्टमेंट का टारगेट बनाया था। सरकार का मकसद कंपनियों में हिस्सेदारी बेचकर 2.1 लाख करोड़ रुपए जुटाना था। अब सरकार ने जो पैकेज दिया है वह इसका 10 गुना है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।