Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

IL&FS Money Laundering Case में राज ठाकरे से ED की पूछताछ, जानिए पूरा मामला

इस केस में ठाकरे की कंपनी Kohinoor CTNL का नाम सामने आया है
अपडेटेड Aug 22, 2019 पर 14:10  |  स्रोत : Moneycontrol.com

महाराष्ट्र नवर्निमाण सेना के प्रमुख राज ठाकरे बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय के ऑफिस पहुंचे। यहां उनसे Infrastucture Leasing & Financial Services (IL&FS) मनी लॉन्ड्रिंग केस में पूछताछ होनी है।


इस केस में ठाकरे की कंपनी Kohinoor CTNL का नाम सामने आया है। कंपनी ने IL&FS से 860 करोड़ तक का लोन और इक्विटी इन्वेस्टमेंट लिया था। ED जांच कर रही है कि फंड में मिले पैसों का इस्तेमाल कहां हुआ था।


क्या है मामला?


2005 में महाराष्ट्र के पूर्व सीएम मनोहर जोशी के बेटे उन्मेष जोशी, राज ठाकरे और बिल्डर रंजन शिरोडकर ने मिलकर Kohinoor CTNL बनाया था। इस कंपनी ने IL&FS से 860 करोड़ का लोन और इक्विटी इन्वेस्टमेंट लिया। अब ईडी जांच कर रही है कि ये फंड किस तरीके से इस्तेमाल हुए थे। इसके लिए सौदों की डिटेल्स देखी जा रही है कि क्या कोई फंड डाइवर्ट हुआ था।


संभावना जताई जा रही है कि ठाकरे से इस डील में उनके स्टेक को लेकर सवाल पूछे जा सकते हैं।


ED सूत्रों ने बताया कि Kohinoor CTNL ने पर्याप्त सिक्योरिटी के बिना IL&FS से लोन लिया और रिपेमेंट पर डिफॉल्ट भी कर दिया। 860 करोड़ में से 225 करोड़ Kohinoor CTNL में शुरुआती निवेश था। दादर में कोहिनूर स्क्वायर बना लेकिन कानूनी पचड़ों में फंस गया, जिसके चलते प्रोजेक्ट धीमा हो गया। 2008 में IL&FS ने अपने Kohinoor CTNL के शेयर को 90 करोड़ में बेचा, जो कि 135 करोड़ का नुकसान था।


राज ठाकरे ने भी 2008 में अपने शेयर बेच दिए। सूत्रों के हवाले से जानकारी के मुताबिक, 2011 में Kohinoor CTNL ने IL&FS के साथ बिल्डिंग की कुछ जगहें बेचकर अमाउंट सेटल करने का समझौता किया था, लेकिन कंपनी यहां भी डिफॉल्ट कर गई। लोन न चुका पाने की स्थिति में कंपनी जोशी के हाथ से निकल गई और आर्किटेक्चरल फर्म Sandeep Shikre and Associates के पास चली गई।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।