Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

Ranbaxy के पूर्व प्रमोटर मलविंदर सिंह भी गिरफ्तार, Religare ने 2,397 करोड़ के नुकसान का लगाया है आरोप

Religare ने मलविंदर सिंह पर कंपनी को जानबूझकर गलत तरीके से 2,397 करोड़ का नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया है
अपडेटेड Oct 11, 2019 पर 16:27  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Ranbaxy Pharmaceuticals के पूर्व प्रमोटर मलविंदर सिंह को हजारों करोड़ के फ्रॉड केस में दिल्ली पुलिस के Economic Offences Wing (EOW) ने शुक्रवार तड़के गिरफ्तार कर लिया। इसके पहले गुरुवार की रात खोजबीन के बाद मलविंदर को लुधियाना में डिटेन किया गया था। इसके पहले गुरुवार की शाम को फ्रॉड के आरोप में EOW ने मलविंदर सिंह के भाई और Religare Enterprises के पूर्व चेयरमैन शिविंदर सिंह को भी गिरफ्तार किया था। इनके अलावा पूर्व CMD सुनील गोधवानी और कंपनी के दो अन्य अधिकारियों की भी गिरफ्तारी हुई है।


Religare Finvest Ltd. ने मलविंदर सिंह पर कंपनी को जानबूझकर गलत तरीके से 2,397 करोड़ का नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया है। गुरुवार को हुई गिरफ्तारियों के बाद से ही पुलिस मलविंदर सिंह की तलाश कर रही थी। इसके अलावा अगस्त में मनीलॉन्ड्रिंग के एक केस में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने भी सिंह ब्रदर्स के कुछ लोकेशनों पर छापा मारा था।


पुलिस ने बताया कि आरोपियों को IPC की धारा 420 (धोखाधड़ी) और धारा 409 (सरकारी नौकर, बैंकर, व्यापारी या एजेंट की ओर से विश्वास तोड़ना) के तहत केस दर्ज किया गया है।


केस क्या है?


दिसंबर 2018 में Religare Enterprise Limited (REL) की सब्सिडियरी Religare Finvest Ltd. (RFL) ने दिल्ली पुलिस के इकोनॉमिक ऑफेंस विंग में एक आपराधिक मामला दर्ज कराया था। कंपनी ने अपने प्रमोटर्स मलविंदर मोहन सिंह और शिविंदर मोहन सिंह के खिलाफ ही शिकायत दर्ज कराई थी।


इस शिकायत में रेलिगेयर के पूर्व CMD सुनील गोधवानी सहित कई दूसरे डायरेक्टर्स पर चीटिंग, फ्रॉड और फंड के गबन करने का आरोप लगाया था। livemint के मुताबिक, REL की तरफ से दी गई जानकारियों में बताया गया है कि प्रमोटर्स और दूसरे अधिकारियों ने मिलकर 740 करोड़ रुपए का फ्रॉड किया है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।