Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

RBI ने एक और कॉपरेटिव बैंक पर लगाई पाबंदी, 6 महीने में निकाल सकेंगे सिर्फ 1000 रुपये

RBI ने कोलकाता स्थित कोलिकाता महिला कॉपरेटिव बैंक पर कई तरह की पाबंदियां लगा दी है।
अपडेटेड Jan 17, 2020 पर 11:13  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Reserve Bank of India यानी RBI बैंकों पर सख्ती बरते हुए है। किसी भी तरह का संदेह होने पर तत्काल कार्रवाई हो रही है। PMC बैंक में पाबंदी लगाने के बाद हाल ही में RBI ने कर्नाटक के श्री गुरु राघवेंद्र सहकारा बैंक पर पाबंदी लगाई थी। अब RBI ने कोलकाता स्थित कोलिकाता महिला कॉपरेटिव बैंक लिमिटेड पर शिकंजा कस दिया है। केंद्रीय बैंक ने 6 महीने तक पाबंदी लगा दी है। इस बैंक के ग्राहक 10 जनवरी 2020 से लेकर 9 जुलाई 2020 तक यानी 6 महीने में केवल 1000 रुपये ही निकाल सकेंगे।


 फाइनेंशियल एक्सप्रेस के मुताबिक, RBI ने अपने अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए कोलिकाता महिला को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड, कोलकाता, पश्चिम बंगाल को पिछले साल 9 जुलाई 2019 को अपने बिजनेस बंद करने का आदेश दिया था। जिसमें RBI ने कॉपरेटिव बैंक पर लोन-एडवांस देने या रिन्यू करने, किसी भी तरह का निवेश, कोई भी लायबिलिटी उठाने, आरबीआई की लिखित अनुमति के बिना नया डिपॉजिट या कोई पेमेंट करने पर रोक लगाई थी। जो कि यह आदेश 9 जनवरी 2020 तक वैलिड था। RBI ने आदेश को 6 महीने के लिए और बढ़ा दिया जो कि अब 9 जुलाई 2020 तक वैलिड है। केंद्रीय बैंक ने कॉपरेटिव बैंक को कहा है कि वो RBI के आदेश की कॉपी बैंक परिसर में चिपकाना जरूरी है। ताकि ग्राहकों का ध्यान बना रहे।


RBI ने अपने आदेश में साफ तौर पर कहा है कि यह पाबंदी बैंक के लाइसेंस को रद्द करने के तौर पर न देखा जाए। बैकं अपनी फाइनेंशियल स्थिति में सुधार होने तक पाबंदियों के साथ अपना बैंकिंग बिजनेस जारी रखेगा। RBI समय-समय पर परिस्थितियों के आधार पर अपने निर्देशों में बदलाव कर सकता है।


दरअसल हाल ही में RBI ने बेंगलुरु स्थित श्री गुरु राघवेंद्र सहकारा बैंक पर भी कई तरह की पाबंदियां लगा दी थीं। बैंक के ग्राहक केवल 35 हजार रुपये खाते से निकाल सकेंगे। निजी क्षेत्र का यह बैंक अगले 6 महीने तक RBI की मंजूरी के बिना कोई नया लोन भी नहीं दे सकता है। साथ ही बिना RBI की अनुमति के वो इस दौरान कोई निवेश भी नहीं कर सकता है। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।