Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

RBI को आर्थिक सुस्ती का अंदाजा था, इसलिए पहले से रेट घटाना शुरू किया: RBI गवर्नर

शक्तिकांत दास ने कहा, पहले बाजार रेपो रेट घटाने पर हैरान था और इस बार ना घटाने पर हैरान है
अपडेटेड Dec 17, 2019 पर 10:16  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने सोमवार को कहा कि केंद्रीय बैंक ने समय से पहले ही यह भांप लिया था कि आर्थिक वृद्धि की रफ्तार सुस्त पड़ रही है। इसी को ध्यान में रखते हुए RBI ने फरवरी 2019 से ही पॉलिसी रेट में कटौती शुरू कर दी थी। उन्होंने कहा, इस महीने पॉलिसी रेट में कटौती ना करने का फैसला किया गया है जो उम्मीद है सही साबित होगा।


दास ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था पर सूचनाओं और आंकड़ों के आधार पर चर्चा करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि RBI आर्थिक नरमी, महंगाई दर में वृद्धि, बैंकों और NBFC की वित्तीय हालत को दुरुस्त करने के लिए "जो भी जरूरी होगा वह कदम उठाएगा।"


उन्होंने उम्मीद जताई है कि अमेरिका-चीन के बीच अब ट्रेड वॉर थमने वाला है। टाइम्स समूह के इंडिया इकोनॉमिक कॉन्क्लेव कार्यक्रम में दास ने कहा, " सरकार और रिजर्व बैंक दोनों ने समय पर कदम उठाए। RBI के संबंध में , मैं कह सकता हूं कि हमने नीतिगत दर में कटौती करके समय से पहले कदम उठाया। इस साल फरवरी की शुरुआत में आरबीआई ने यह भांप लिया था कि आर्थिक वृद्धि की रफ्तार सुस्त हो रही है, हमने देखा कि वृद्धि की रफ्तार सुस्त पड़ने की गति बढ़ रही है, इसलिए हमने फरवरी से ही रेपो दर में कटौती करना शुरू कर दिया।"


उन्होंने कहा कि फरवरी में RBI के पॉलिसी रेट घटाने से बाजार हैरान था। मुझे आश्चर्य है कि अब दरों में कटौती को रोकने के फैसले पर भी बाजार हैरान दिख रहा है।


दास ने कहा, " इस महीने पॉलिसी रेट में जब हमने कोई बदलाव ना करने का फैसला किया तो बाजार ने पता नहीं क्यों हैरानी जताई। मुझे उम्मीद है कि आगे के हालात से यह पक्का हो जाएगा कि हमने सही फैसला लिया है।"


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।