Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

RBI Monetary Policy: FY19-20 के लिए GDP ग्रोथ का अनुमान 6.9% से घटाकर 6.1%

RBI ने अप्रैल-जून 2021 तिमाही के लिए GDP ग्रोथा का अनुमान भी 0.2 फीसदी घटाकर 7.2 फीसदी कर दिया है
अपडेटेड Oct 07, 2019 पर 17:11  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अर्थव्यवस्था की कमजोर गतिविधियों को देखते हुए रिजर्व बैंक ने फिस्कल ईयर 2019-2020 के लिए GDP का अनुमान 6.9 फीसदी से घटाकर 6.1 फीसदी कर दिया है। RBI की मॉनेटरी पॉलिसी कमिटी (MPC) ने ग्रोथ रिवाइव करने के लिए रेट में नरमी का नजरिया बरकरार रखने का फैसला किया है। कमिटी ने कहा है कि जब तक ग्रोथ पटरी पर नहीं आत तब तक वह रेट में कटौती जारी रखेंगे।


RBI ने अप्रैल-जून 2021 तिमाही के लिए GDP ग्रोथा का अनुमान 0.2 फीसदी घटाकर 7.2 फीसदी कर दिया है। फिस्कल ईयर 2021 के लिए GDP की ग्रोथ 7 फीसदी रहने का अनुमान है। बशर्ते मॉनसून की बारिश अच्छी हो और कोई बाहरी झटका ना लगे।


ग्रोथ की सुस्ती पर बात करते हुए RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि कमजोर डिमांड के कारण लगातार दूसरी तिमाही में रियल GDP ग्रोथ कमजोर रही है। इससे संकेत मिल रहा है कि ग्रामीण और शहरी मांग में कमजोरी बनी हुई है।


मॉनेटरी पॉलिसी रिव्यू हर दो महीने में एकबार होती है। अगला रिव्यू 3-5 दिसंबर को होने वाला है। आज इस साल का चौथा मॉनेटरी पॉलिसी रिव्यू था। RBI ने आज की बैठक के बाद बताया कि इस फिस्कल ईयर की पहली तिमाही (अप्रैल-जून 2019) में GDP की ग्रोथ घटकर 5 फीसदी पर आ गई।


प्राइवेट फाइनल कंजम्पशन एक्सपेंडिचर (PFCE) घटकर 18 तिमाही में सबसे निचले लेवल पर आ गया है। ग्रॉस फिक्स्ड कैपिटल फॉरमेशन (GFCF) में मामूली सुधार हुआ है।


CNBC-TV18 के एक पोल के मुताबिक, 60 फीसदी एक्सपर्ट्स की राय थी कि GDP ग्रोथ 6.9 फीसदी से घटकर 6.3-6.5 फीसदी हो सकती है। लेकिन सभी जानकार एकमत हैं कि RBI दूसरी छमाही के लिए रिटेल महंगाई अनुमान में बदलाव नहीं करेगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।