Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

NBFC की मुश्किल दूर करने के लिए RBI ने बढ़ाई क्रेडिट लिमिट

RBI ने कहा कि वह इस मामले में अगस्त के अंत तक गाइडलाइंस पेश करेंगे
अपडेटेड Aug 07, 2019 पर 17:14  |  स्रोत : Moneycontrol.com

रिजर्व बैंक ने बुधवार को रेपो रेट में कटौती के साथ कई अहम फैसले लिए। सबसे पहले उन्होंने रेपो रेट 0.35 फीसदी घटाकर 5.40 फीसदी कर दिया है। इसके साथ ही उन्होंने NBFC सेक्टर की नकदी संकट की मुश्किलों को भी कम करने की कोशिश की है।


लार्ज एक्सपोजर फ्रेमवर्क (LEF) पर RBI के नए गाइडलाइंस 1 अप्रैल 2019 से लागू होगा। इसके तहत अब किसी एक NBFC में बैंक मैक्सिमम उसके टीयर 1 कैपिटल का 20 फीसदी लोन दे सकते हैं। पहले यह सीमा सिर्फ 15 फीसदी थी। यह सीमा बढ़ने से NBFC को फायदा होगा लेकिन इसमें माइक्रो फाइनेंस इंस्टीट्यूशंस शामिल नहीं हैं।


RBI ने कहा कि वह इस मामले में अगस्त के अंत तक गाइडलाइंस पेश करेंगे। RBI के इस कदम पर नाइट फ्रैंक इंडिया के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर शिशिर बैजल ने कहा कि NBFC के नकदी संकट की वजह से खासतौर पर डेवलपर्स के पास पैसा नहीं है। वे निर्माण कार्य के लिए फंड जुटाने की मुश्किल से जूझ रहे हैं। RBI ने हाउसिंग के लिए प्रायॉरिटी सेक्टर के लोन की लिमिट 10 लाख रुपए से बढ़ाकर 20 लाख रुपए कर दिया है। इससे अफोर्डेबल हाउसिंग सेक्टर में तेजी आएगी।