Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

महाराष्ट्र में 2-4 सप्ताह में तीसरी लहर का अंदेशा, एक्टिव मामले 8 लाख तक पहुंच सकते हैं: टास्क फोर्स

विशेषज्ञों ने यह भी कहा है कि मरीजों में 10 प्रतिशत संख्या बच्चों की हो सकती है
अपडेटेड Jun 17, 2021 पर 16:48  |  स्रोत : Moneycontrol.com

महाराष्ट्र में राज्य द्वारा नियुक्त टास्क फोर्स ने चेतावनी दी है कि अगर कोरोना गाइडलाइंस का पालन नहीं किया गया तो राज्य या मुंबई को दो से चार सप्ताह में महामारी की तीसरी लहर प्रभावित कर सकती है। इसके चलते मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने वरिष्ठ डॉक्टरों और अधिकारियों को ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में दवाएं और स्वास्थ्य उपकरण सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया है।


टास्क फोर्स और चिकित्सा विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि यदि कोरोना गाइडलाइंस का पालन नहीं किया गया तो राज्य में कोविड-19 वायरस की तीसरी लहर में एक्टिव मामलों की संख्या को बढ़कर दोगुनी हो सकती है। राज्य में कोरोना के एक्टिव  मरीजों की संख्या आठ लाख तक पहुंच सकती है। बुधवार तक एक्टिव मामले  1,38,361 था। विशेषज्ञों ने यह भी कहा है कि मरीजों में 10 प्रतिशत संख्या बच्चों की हो सकती है।


बुधवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ हुई समीक्षा बैठक में चिकित्सा अधिकारियों ने कहा कि तीसरी लहर के दौरान मरीजों की संख्या दूसरी लहर से भी अधिक रह सकती है। अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को तीसरी लहर को सीमित रखने के लिए कोविड संबंधी गाइडलाइंस का अच्छे से पालन जारी रखने की सलाह दी। बैठक में यह भी बताया गया कि पहली लहर में 19 लाख मामले सामने आए, जो दूसरी लहर में बढ़कर 40 लाख हो गए।


बुधवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ हुई बैठक में एक अधिकारी ने कहा कि डेल्टा प्लस वेरिएंट महाराष्ट्र में तीसरी लहर पैदा कर सकता है। अधिकारी ने कहा कि तीसरी लहर दोगुनी दर से फैल सकती है। तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए अधिकारियों ने कहा कि बड़े पैमाने पर कोरोना टेस्टिंग और वैक्सीनेशन को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। इसके अलावा कोविड प्रोटोकॉल और प्रतिबंधों का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।