Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

2019 में 36 शेयरों ने दिया 100% से ज्यादा रिटर्न, ऐसे चुनें मल्टीबैगर शेयर

अमेरिका-चीन के बीच बढ़ते ट्रेड वॉर और अर्थव्यवस्था में सुस्ती के कारण यह साल निवेशकों के लिए बहुत अच्छा नहीं रहा है
अपडेटेड Aug 20, 2019 पर 09:51  |  स्रोत : Moneycontrol.com

शेयर बाजार का प्रदर्शन देखकर अभी आपको निराशा हो रही होगी लेकिन जानकारों का मानना है कि निवेश के लिहाज से 2019 गोल्डन ईयर है। ऐसे कई स्टॉक्स हैं जो फिलहाल आकर्षक वैल्यूएशन पर ट्रेड कर रहे हैं। ये स्टॉक्स अगले कुछ साल में मल्टीबैगर साबित हो सकते हैं।


हाल के साल में मल्टीबैगर स्टॉक्स की संख्या घटी है। 2017 में 100 फीसदी से ज्यादा रिटर्न देने वाले शेयरों की संख्या 611 थी। यह 2019 में घटकर सिर्फ 36 रह गई है। इसी तरह 50 फीसदी से ज्यादा रिटर्न देने वाले शेयरों की संख्या 2017 में 15 थी जो 2019 में घटकर सिर्फ 1 रह गई। वहीं 2017 में 1000 फीसदी से ज्यादा रिटर्न देने वाले शेयरों की संख्या 4 थी जो 2019 में घटकर सिर्फ 1 रह गई है।


मशहूर निवेशक वॉरेन बफे ने एकबार कहा था, जब बाकी लोग लालच दिखाएं तब आप सजग रहें और जब बाकी लोग सजग रहें तो आप लालची हो सकते हैं। ज्यादातर जानकारों का मानना है कि मौजूदा वक्त लालची होने का हो सकता है। कुल मिलाकर देखें को मार्केट वैल्यूएशन अभी सस्ता नहीं है लेकिन शेयर आकर्षक वैल्यूएश पर नजर आ रहे हैं। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।


अमेरिका-चीन के बीच बढ़ते ट्रेड वॉर और अर्थव्यवस्था में सुस्ती के कारण यह साल निवेशकों के लिए बहुत अच्छा नहीं रहा है। निवेशकों के सेंटीमेंट में सुधार तभी होगा जब निजी खर्च बढ़ेगा।


RBI ने अगस्त की शुरुआत में पॉलिसी रेट में 0.35 फीसदी की कटौती की ताकि इकोनॉमी की स्पीड बढ़ाई जा सके। लेकिन इससे हालात में कुछ खास बदलाव नहीं आया है। लिहाज अगर आप निवेश के बारे में सोच रहे हैं तो कम से कम 3-4 साल के लिए निवेश करना होगा।


कैसे चुनें मल्टीबैगर शेयर


मल्टीबैगर शेयर चुनना मुश्किल काम है। कोई भी शेयर जब मल्टीबैगर बनता है तो उसमें इकोनॉमी, इंडस्ट्री ग्रोथ ट्रेंड, रेगुलेटरी बदलाव और कंपनी के फंडामेंटल्स होते हैं। किसी कंपनी के फंडामेंटल्स को छोड़कर आप बाकी किसी का अंदाजा नहीं लगा सकते हैं। इसलिए आपको किसी शेयर को चुनते हुए कंपनी के फंडामेंटल्स पर फोकस करना चाहिए।