Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

Coronavirus: वॉरशिप रेडी, रिटायर आर्मी जवान, डॉक्टर मदद के लिए तैयार

डिफेंस मिनिस्ट्री अपने रिटायर जवानों को एकजुट कर रही है ताकि राज्य और जिला स्तर या जहां कहीं भी सहायता पहुंचाई जाए
अपडेटेड Apr 03, 2020 पर 08:33  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोनावायरस (Coronavirus) का संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। आने वाले दिनों में हालात और बद्तर हो सकते हैं। इसको ध्यान में रखते हुए सरकार ने युद्धस्तर पर तैयारी कर चुकी है। एयरफोर्स ट्रांसपोर्ट फ्लीट को एक्टिवेट कर दिया गया है ताकि देश के अलग-अलग इलाकों में खाने-पीने की चीजों और दवाओं जैसी जरूरी चीजें पहुंचाने में मदद मिल सके।


भारत सरकार ने वॉरशिप को भी तैयार रखा है ताकि कभी भी मौका पड़ने पर उसका इस्तेमाल किया जा सके। डिफेंस मिनिस्टर राजनाथ सिंह ने सेना के रिटायर जवानों को भी तैयार कर लिया है। एयरफोर्स को एक्टिवेट किया गया है ताकि जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, मणिपुर और नगालैंड में मेडिकल सप्लाई पहुंचाई जा सके। लैंड ट्रांसपोर्टेशन में दिक्कत को देखते हुए सरकार ने यह कदम उठाया है।


कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से निपटने के लिए देश में 21 दिन का लॉकडाउन चल रहा है। ऐसे में डिफेंस मिनिस्ट्री 8500 से ज्यादा आर्मी डॉक्टरों और जवानों के साथ मदद के लिए तैयार हैं।


डिफेंस मिनिस्ट्री अपने रिटायर जवानों को भी एकजुट कर रही है ताकि राज्य और जिला स्तर या जहां कहीं भी सहायता पहुंचाई जाए। मंत्रालय ने कहा, ‘‘राज्य सैनिक बोर्ड, जिला सैनिक बोर्ड अधिक से अधिक संख्या में सेवानिवृत्त सैनिकों को जुटाने में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं ताकि ये राज्य और जिला प्रशासन को लोगों तक पहुंचने में सहायता कर सकें। इसमें संपर्क का पता लगाना, सामुदायिक निगरानी, Isolation Center का प्रबंधन और उनको दिया जाने वाला कार्य शामिल है।’’


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार अब तक 2000 लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं और 50 लोगों की मौत हो चुकी है। मंत्रालय ने बताया कि पंजाब में  गार्डियन्स ऑफ गवर्नेंन्स नाम के संगठन में 4,200 सेवानिवृत्त सैनिक हैं और वे सभी गांवो से आंकड़े जुटाने में मदद कर रहे हैं।


छत्तीसगढ़ सरकार ने भी ESM को पुलिस की सहायता के कार्य में लगाया है और इसी तरह से आंध्र प्रदेश में भी जिला कलेक्टरों ने ESM स्वयंसेवियों से सहायता मांगी है।


इसी तरह से उत्तर प्रदेश में सभी "जिला सैनिक कल्याण अधिकारी" जिला नियंत्रण कक्ष के संपर्क में हैं। वहीं रिटायर आर्मी डॉक्टर को भी तैयार रखा गया है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।