Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

इजरायली स्पाईवेयर Pegasus के जरिए भारतीय पत्रकारों और एक्टिविस्ट्स की हुई जासूसी: Whatsapp

Whatsapp ने कहा है कि इजराइल स्पाईवेयर Pegasus के जरिए कुछ अनजान ऑपरेटर्स ग्लोबल लेवल पर जासूसी कर रहे हैं
अपडेटेड Nov 01, 2019 पर 11:23  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Facebook की इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप कंपनी Whatsapp ने कहा है कि इजराइल स्पाईवेयर Pegasus के जरिए कुछ अनजान ऑपरेटर्स ग्लोबल लेवल पर जासूसी कर रहे हैं। भारतीय पत्रकार और मानवाधिकार कार्यकर्ता भी इस जासूसी का शिकार बने हैं।


वॉट्सऐप ने कहा है कि वह NSO Group के खिलाफ मुकदमा करने जा रही है। यह इजराइल की निगरानी करने वाली कंपनी है। समझा जाता है कि इसी कंपनी ने वह टेक्नोलॉजी डेवलप की है जिसके जरिए कुछ गुमनाम ऑपरेटर्स ने जासूसी के लिए करीब 1,400 लोगों के फोन हैक किए हैं। चार महाद्वीपों के वॉट्सऐप यूजर्स इस जासूसी का शिकार बने हैं। इनमें राजनयिक, राजनीतिक विरोधी, पत्रकार और वरिष्ठ सरकारी अधिकारी शामिल हैं।


हालांकि, वॉट्सऐप ने यह खुलासा नहीं किया है कि किसके कहने पर पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं के फोन हैक किए गए हैं।


वॉट्सऐप ने यह भी नहीं बताया कि भारत में कितने लोगों को इस जासूसी का निशाना बनाया गया। कंपनी ने कहा कि मई में उसे एक ऐसे साइबर हमले का पता चला जिसमें उसकी वीडियो कॉलिंग सिस्टम के जरिए यूजर्स को मालवेयर भेजा गया।


वॉट्सऐप ने कहा कि उसने करीब 1,400 यूजर्स को स्पेशल वॉट्सऐप मैसेज के जरिए इसकी जानकारी दी है। हालांकि कंपनी ने भारत में इस स्पाईवेयर हमले से प्रभावित लोगों की संख्या नहीं बताई है लेकिन उसके प्रवक्ता ने कहा कि इस हफ्ते हमने जिन लोगों से संपर्क किया है उनमें भारतीय यूजर्स भी शामिल हैं।


ग्लोबल लेवल पर वॉट्सऐप का इस्तेमाल करने वालों की संख्या डेढ़ अरब है। भारत में करीब 40 करोड़ लोग वॉट्सऐप का इस्तेमाल करते हैं।


वॉट्सऐप ने मंगलवार को कैलिफोर्निया की फेडरल कोर्ट में इजराइल की साइबर इंटेलिजेंस कंपनी एनएसओ ग्रुप के खिलाफ मुकदमा दायर किया है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।