Moneycontrol » समाचार » ख़बरें

WTO के सदस्यों ने भारत से पूछा, 25 लाख करोड़ खर्च करके कैसे डबल होगी किसानों की आय?

प्रकाशित Tue, 18, 2019 पर 13:11  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अमेरिकी और इंडिया में किसानों के सपोर्ट में कई बड़ी योजनाओं का ऐलान किया है। आखिर यह योजनाएं कैसे लागू की जाएंगी, यह सवाल WTO के दूसरे देश पूछ रहे हैं। WTO की तिमाही कृषि कमिटी की बैठक में सोमवार को अमेरिका और इंडिया से कृषि योजनाओं के बारे में पूछताछ की।


WTO में पेमेंट के नेचर और साइज को लेकर सख्त नियम हैं। इसके सभी सदस्य इस बात की निगरानी रखते हैं कि कोई देश इसमें गड़बड़ी तो नहीं कर रहा है।


अमेरिकी प्रेसिडेंट डॉनल्ड ट्रंप और भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी ने किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए कई स्कीमों का ऐलान किया है। ट्रंप चीन के साथ टैरिफ वॉर शुरू होने के बाद घरेलू नुकसान की भरपाई करने में लगे हैं। वहीं दूसरी तरफ मोदी सरकार भी कृषि प्रमुख अर्थव्यवस्था की सुस्ती से जूझ रही है।


यूरोपीयन यूनियन ने भारत से यह सवाल किया कि वह प्रस्तावित 25 लाख करोड़ रुपए (357.5 अरब डॉलर) कृषि विकास, 2022 तक किसानों की आमदनी डबल करने पर किस तरह खर्च करेंगे। यह अगले पांच साल के लिए 100 लाख करोड़ की योजना का हिस्सा है।


यूरोपीयन यूनियन ने पूछा है कि ग्लोबल मार्केट प्राइस और अत्याधिक उत्पादन पर  रोक के उपायों को ध्यान में रखते हुए वह कैसे 25 लाख करोड़ रुपए खर्च करेंगे।


अमेरिका से इंडिया नॉन बासमती राइस पर 5 फीसदी एक्सपोर्ट ड्यूटी लगाने और ऊंची कीमतों पर गेहुं की खरीदारी के बारे में सवाल पूछा।


अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया ने इंडिया से कृषि के लिए नए ट्रांसपोर्ट एंड मार्केटिंग असिस्टेंस के बारे में भी जानकारी ली। ऑस्ट्रेलिया का कहना है कि यह एक्सपोर्ट सब्सिडी थी जिसे अब खत्म कर देना चाहिए।


अमेरिका से सवाल करने वाले देशों में ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, चीन, यूरोपीय यूनियन, न्यूजीलैंड और उक्रेन थे। इन देशों ने अमेरिका के 16 अरब डॉलर के मार्केट फैसिलिटेशन पैकेज के बारे में सवाल किया।