Moneycontrol » समाचार » राजनीति

संसद सत्र में पीएम ने कहा, पक्ष-विपक्ष भूलकर 'निष्पक्ष' होकर काम करें

प्रकाशित Mon, 17, 2019 पर 08:21  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पीएम नरेंद्र मोदी ने सोमवार को सक्रिय विपक्ष पर जोर देते हुए कहा कि प्रजातंत्र में यह बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि विपक्ष को अपने नंबर की चिंता नहीं करनी चाहिए बल्कि संसद की कार्यवाही में सक्रिय तौर पर हिस्सा लेना चाहिए।


मोदी ने विपक्ष से निवेदन किया है कि वे जब सदन में हों तब देश के हितों के बारे में सोचें. उन्होंने कहा, जब हम संसद में आते हैं तो हमें पक्ष और विपक्ष को भूल जाना चाहिए। हमें किसी भी मुद्दे को निष्पक्ष तरीके से सोचना चाहिए जो देश के हित में हो।


17वीं लोकसभा सत्र शुरू हो चुका है। यह 40 दिनों तक चलेगा। पहले दो दिनों में सदस्यों को शपथ दिलाई जाएगी। लोकसभा अध्यक्ष 19 जून को चुने जाएंगे। पीएम मोदी ने सांसद पद की शपथ ले ली है। उनके बाद बाकी नेता भी शपथ ले रहे हैं। 20 जून को राष्ट्रपति दोनों सदनों को संयुक्त रूप से संबोधित करेंगे। और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 5 जुलाई को बजट पेश करेंगी।


इस सत्र में कई अहम बिल पेश किये जा सकते हैं। जिसमें तीन तलाक, नागरिकता संशोधन, केंद्रीय शैक्षणिक संस्थान जैसे बिल शामिल हैं। इसमें तीन तलाक बिल पर सरकार की कोशिश होगी कि इसे कानूनी तौर पर मान्य किया जाए।


इस सत्र आम लोगों की निगाहें बजट पर टिकी हुई हैं। अंतरिम बजट में मोदी सरकार ने 5 लाख की आय को आयकर में छूट दी थी। लेकिन इसमें स्लैब शामिल नहीं किया गया था। ऐसे में ये देखना अहम होगा कि सरकार मिडल क्लास को राहत देने के आयकर में छूट की सीमा बढ़ाती है या नहीं।


सरकार ने बिलों और विकास के मुद्दे पर विपक्ष से सहयोग की मांग की है। संसदीय कार्यमंत्री ने विपक्ष से संसद को सुचारी रूप से चलाने की मदद मांगी है। इसके अलावा सभी मुद्दों पर चर्चा कराने का आश्वासन दिया है।