Moneycontrol » समाचार » राजनीति

पिछले 6 साल में 2,838 पाकिस्तानी 914 अफगानियों को मिली नागरिकता : सीतारमण

निर्मला सीतारमण ने कहा कि राज्य सरकारें यह नहीं कह सकती हैं कि वो कानून को लागू नहीं करेंगे।
अपडेटेड Jan 20, 2020 पर 15:00  |  स्रोत : Moneycontrol.com

फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण ने रविवार को कहा कि नागरिकता (संशोधन) अधिनियम एक्ट (Citizenship Amendment Act-CAA) नागरिकता देने के लिए है न कि नागरिकता रद्द करने के लिए कानून है।


सीतारमण ने कहा कि पिछले 6 साल में पाकिस्तान से 2,838, अफगानिस्तान से 914 और बांग्लादेश से 172 को भारत की नागरिकता दी गई है। उन्होंने आगे कहा कि 1964-2008 के बीच तमिलों (श्रीलंका के) 4 लाख से अधिक लोगों को भारतीय नागरिकता मुहैया कराई गई है।


चेन्नई में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान सीतारमण ने ये बातें कही। उन्होंने कार्यक्रम में कहा कि सरकार नागिरकता देने के लिए ये एक्ट ला रही है न कि नागिरकता छीनने के लिए। 


निर्मला सीतारमण ने आगे कहा कि साल 2014 तक पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए 566 से ज्यादा मुस्लिम शरणार्थियों को भारत की नागरिकता दी गई। साल 2016 से 2018 के दौरान मोदी सरकार के कार्यकाल में करीब 1595 पाकिस्तानी प्रवासियों और 391 अफगानिस्तानी मुस्लिमों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई। 2016 में इस अवधि के दौरान, अदनान सामी को नागरिकता दी गई थी, यह एक उदाहरण है। तस्लीमा नसरीन इसका एक और उदाहरण हैं। इससे हमारे ऊपर लगे सभी आरोप गलत साबित होते हैं।


उन्होंने साफ तौर पर कहा कि राज्य सरकारें इसे लागू करने के लिए मना नहीं कर सकती है। साथ राज्य विधानसभाओं में पारित प्रस्ताव का कोई असर नहीं पड़ेगा और यह अवैध है।


उन्होंने कहा कि श्रीलंकाई शरणार्थी भारत में बेहद बदतर स्थिति में रह रहे हैं। विपक्ष उनके अधिकारों के बारे में कभी बात नहीं बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर  संसद में चर्चा हुई है और सरकार ने CAA पर विपक्ष के सभी सवालों का जवाब दिया है।


सीतारमण ने कहा कि नए नागरिकता कानून से किसी को भी घबराने की जरूरत नही है। यह कानून शरणार्थियों को बेहतर जिंदगी देगा। हम किसी की नागरिकता खत्म नहीं कर रहे, बल्कि इससे नागरिकता दी जाएगी। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि National Population Register (NPR) हर 10 साल में अपडेट किया जाता है और यह National Register of Citizens (NRC) से जुड़ा नहीं है। कुछ लोग इसको लेकर गलत जानकारियां फैला रहे हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।