Moneycontrol » समाचार » राजनीति

अरुण जेटली का राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता अरुण जेटली का निगम बोध घाट पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।
अपडेटेड Aug 26, 2019 पर 08:35  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली चिर निद्रा में सो गए। दिल्ली के निगम बोध घाट पर उनका पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। बेटे रोहन ने मुखाग्नि दी। बीजेपी के संकटमोचक कहे जाने वाले अरुण जेटली को अंतिम विदाई देने के लिए उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, केंदीय मंत्री रामविलास पासवान, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, रामदास आठवले, दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल, डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया, महाराष्ट्र सीएम देवेंद्र फडणवीस, गुजरात सीएम विजय रूपाणी, हरियाणा सीएम मनोहर लाल खट्टर, उत्तराखंड सीएम त्रिवेंद्र रावत, कर्नाटक सीएम येदियुरप्पा, बिहार सीएम नीतीश कुमार, योग गुरु बाबा रामदेव और विपक्ष के कई दिग्गजों ने नम आंखों से विदाई दी। विदेश यात्रा में होने की वजह से पीएम मोदी अंतिम संस्कार में नहीं शामिल हो पाए। हालांकि उन्होंने बहरीन में शोक प्रकट करते हुए कहा कि मैं यहां इतना दूर हूं और मेरा दोस्त अरुण चला गया। 



 इससे पहले अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को बीजेपी मुख्यालय लाया गया था। जहां अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। बीजेपी मुख्यालय से ही उनकी अंतिम यात्री शुरु हुई और निगम बोध घाट पहुंचे। पार्टी के कार्यकर्ता लंबी कतार में खड़े रहे। कार्यकर्ताओं ने नारी बाजी की, जब तक सूरज चांद रहेगा, जेटली तेरा नाम रहेगा। 


बता दें कि अरुण जेटली पिछले काफी समय से बीमार चल रहे थे। उनका सॉफ्ट टिश्यू कैंसर का इलाज चल रहा था। वे इस बीमारी के इलाज के लिए न्यूयॉर्क गए थे। अरुण जेटली का 14 मई 2018 को एम्स में ही  Kidney Transplant भी हुआ था। उन्हें शुगर की भी बीमारी थी। वजन अधिक बढ़ने की वजह से जेटली की बैरियाट्रिक सर्जरी भी कराई गई थी। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।