Moneycontrol » समाचार » राजनीति

छत्तीसगढ़ में खुला चुनावी वादों का पिटारा

प्रकाशित Sat, 10, 2018 पर 13:44  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

छत्तीसगढ़ विधानसभा का चुनाव प्रचार आज शाम थम जाएगा। इसके पहले तमाम राजनीतिक पार्टियां जनता के सामने चुनावी वादों का पिटारा खोल रही हैं। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने छत्तीसगढ़ के लिए पार्टी का घोषणापत्र जारी कर दिया है। इसके पहले कल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी राज्य के लिए घोषणापत्र जारी कर चुके हैं। चुनाव प्रचार थमने से पहले कांग्रेस और बीजेपी राज्य में ताबड़तोड़ रैलियां कर रही हैं। बीजेपी के चार दिग्गज अमित शाह, सुषमा स्वराज, योगी आदित्यनाथ और बाबुल सुप्रियो आज दिन भर राज्य में जनसभाएं और रैलियां करेंगे। साथ ही, छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती के गठबंधन का घोषणापत्र भी आज जारी होगा।


एमपी के लिए कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में किसानों से कर्ज माफी का वादा किया है। अपने घोषणापत्र में कांग्रेस ने वादा किया है कि सरकार बनने के 10 दिनों के भीतर किसानों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा। इसके अलावा गरीबों को 1 रुपये के दर से चावल देने का वादा किया गया है। राज्य के 24 जिलों का दौरा कर चुके कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि ये जनता का घोषणापत्र है। मेनिफेस्टो में कांग्रेस ने किसानों, महिलाओं और शिक्षा से जुड़ी समस्याओं को शामिल किया है। कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ की महिलाओं के लिए बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं और एक सुरक्षित समाज का भी वादा किया है। मध्यप्रदेश के अपने घोषणापत्र को कांग्रेस ने वचनपत्र नाम दिया है।


उधर छत्तीसगढ़ के रण में चुनाव प्रचार करने पहुंचे पीएम मोदी ने अर्बन नक्सल पर जोरदार हमला बोला। पीएम मोदी ने कहा कि एयरकंडीशन कमरों में बैठकर अर्बन नक्सल आदिवासियों की जिंदगी बर्बाद करते हैं और जब सरकार उन पर एक्शन लेती है तो कांग्रेस पार्टी अर्बन नक्सलियों के सपोर्ट में उतर जाती है।


इस बीच 2019 में महागठबंधन की कोशिश को अंजाम तक पहुंचाने के लिए पूरे जोर शोर से टीडीपी चीफ चंद्रबाबू नायडू मिशन पर जुट गए हैं। कल वो डीएमके चीफ एम के स्टालिन से मिले। दोनों के बीच अगले साल होने वाले आम चुनाव को लेकर रणनीति पर चर्चा हुई। स्टालिन ने चंद्रबाबू नायडू को सपोर्ट करने का भरोसा दिया। इसके बाद मीडिया के सामने आए चंद्रबाबू नायडू ने कहा है कि लोकतंत्र को बचाने के लिए सबको साथ मिलकर लड़ना होगा।