Moneycontrol » समाचार » राजनीति

राम मंदिर मामले में फैसला आने के पहले अधिकारियों की छुट्टियां रद्द, अयोध्या की सीमा होगी सील

राम मंदिर मामले में सुप्रीम कोर्ट से कभी भी फैसला आ सकता है। इसके लिए अयोध्या में प्रशासनिक व्यवस्था खास तौर से चुस्त-दुरुस्त की जा रही है
अपडेटेड Nov 07, 2019 पर 13:14  |  स्रोत : Moneycontrol.com

सुप्रीम कोर्ट से राम मंदिर मामले में कभी भी फैसला सुनाया जा सकता है। इसके लिए उत्तर प्रदेश के अयोध्या को पुलिस छावनी में तब्दील करने की तैयारी की जा रही है। चप्पे-चप्पे पर पुलिस फोर्स की तैनाती की जा रही है। साथ ही अयोध्या से सटे जिलों की सीमाओं को भी सील करने की तैयारी की जा रही है। इसके अलावा सरकार ने सभी अधिकारियों और कर्मचारियों की छुट्टियां 30 नवंबर तक रद्द कर दी हैं।


शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए अतिरिक्त फोर्स भी मंगाया जा रहा है। नजदीकी अस्पतालों में दवाई का इतंजाम किया जा रहा है। अस्पताल के डॉक्टरों से कहा गया है कि हमेशा ड्यूटी में तैनात रहें। सभी आवश्यक दवाइयों और अन्य सुविधाओं की तैयारी रखें।
फैसले के बाद की स्थित से निपटने के लिए अधिकारियों की हमेशा मीटिंग्स हो रही हैं। सभी कर्मचारियों को अपने-अपने विभाग पर कड़ी निगरानी बनाए रखने के निर्देश जारी किए गए हैं।


अयोध्या पर फैसला आने के पहले पुलिस अधीक्षक ने शांति और कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए RJB सेल का गठन किया है। SSP उत्तरी R.S. गौतम को सेल का नोडल अधिकारी और C.O. सिटी को सहायक नोडल अधिकारी बनाया गया है। सेल में कई इंस्पेक्टर व दरोगाओं की भी तैनाती की गई है। साथ ही शासन से अर्द्ध सैनिक बल की भी मांग की गई है। उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही अर्धसैनिक बल मिल जाएंगे।
इसके अलावा स्थानीय स्तर पर अस्थाई जेल भी बनाने की तैयारी की जा रही है, जिसमें स्कूलों का चयन किया जा सकता है।  


कुल मिलाकर फैसले की घड़ी के बाद किसी भी तरह की अनहोनी से निपटने के लिए प्रशासनिक व्यवस्थाएं पूरी तरह से तैयार की जा रही है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।