Moneycontrol » समाचार » राजनीति

आवाज़ अड्डाः उपचुनाव में बीजेपी को झटका, 2019 के लिए क्या होगी रणनीति!

प्रकाशित Wed, 14, 2018 पर 20:49  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

उत्तर प्रदेश में समाजावदी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का तालमेल पहले टेस्ट में पास हो चुका है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का गढ़ गोरखपुर चला गया और फूलपुर में प्रदेश के उप मुख्यमंत्री की सीट भी बीजेपी के हाथ से निकल गई। इधर बिहार में भी बीजेपी और नीतीश कुमार का गठबंधन आरजेडी को कोई नुकसान पहुंचाने में नाकाम रहा। अब सवाल उठता है कि क्या ये सीधे तौर पर बीजेपी के लिए खतरे की घंटी है? इसके साथ ही 2019 चुनावों के लिए विपक्षी एकता के लिए मजबूत तर्क भी मिल गया है, जो ना सिर्फ उत्तर प्रदेश बल्कि पूरे देश में बीजेपी के चुनावी समीकरण बिगाड़ सकता है।


उत्तर प्रदेश में योगी का गढ़ गया, डिप्टी सीएम की खाली की हुई सीट गई लेकिन सबसे बड़ी बात ये है कि बुआ भतीजे के फौरी तालमेल ने ही बीजेपी का विजय रथ रोक दिया। अगर 2019 के चुनावों में ये गठबंधन सामने आ खड़ा होगा तो बीजेपी के लिए उत्तर प्रदेश सबसे बड़ी चुनौती बन सकता है। सपा, बीएसपी का गठबंधन अभी दूर की कौड़ी है, लेकिन अखिलेश यादव ने मायावती को जीत का सबसे पहला श्रेय दिया है और कहा है कि उत्तर प्रदेश ने पूरे देश को संदेश दिया है।
 
उपचुनाव के परिणाम आने तक सपा, बीएसपी के साथ आने का मजाक उड़ा रही बीजेपी के सामने अब ये एक बड़ी चुनौती बन गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने माना कि इस तरह के गठजोड़ की काट के लिए रणनीति तैयार की जाएगी।


उपचुनावों की जीत के बाद विपक्षी दलों का मोर्चा बनाने की पक्षधर ममता बनर्जी ने मायावती और अखिलेश यादव को धन्यवाद देने के साथ-साथ इसे बीजेपी के अंत की शुरुआत बताया है। साफ है कि ना सिर्फ सपा, बीएसपी बल्कि विपक्ष के दूसरे दलों को भी इस जीत ने दम दिया है। लालू के जेल में रहते हुए भी बिहार की अररिया लोकसभा सीट पर आरजेडी की जीत भी गैर बीजेपी दलों को भरोसा दे रही है। आरजेडी नेता तेजस्वी यादव कह रहे हैं कि सोनिया गांधी ने डिनर पार्टी के साथ अच्छी शुरुआत की थी, जिसे उपचुनाव की जीत से संकेत लेते हुए आगे बढ़ाना चाहिए।


सवाल उठता है कि क्या सकारात्मक नतीजे देखने के बाद सपा और बीएसपी अब गठबंधन कर लेंगे? क्या अब देश का विपक्ष एकता की ताकत को पहचानकर एकजुट होगा? और सबसे बड़ा सवाल ये कि क्या बीजेपी, सपा और बीएसपी के घातक गठजोड़ की कोई काट निकाल पाएगी?