Moneycontrol » समाचार » राजनीति

दिल्ली का चुनावी दंगल: BJP या कांग्रेस, कौन देगा AAP को कड़ी टक्कर!

दिल्ली के चुनावी दंगल में प्रचार जोरों पर है और जुबानी जंग भी।
अपडेटेड Jan 27, 2020 पर 09:32  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

दिल्ली के चुनावी दंगल में प्रचार जोरों पर है और जुबानी जंग भी। फाइनल राउंड में आकर गृह मंत्री अमित शाह ने केजरीवाल सरकार पर हमला बोल दिया है। उन्होंने CCTV कैमरा, वाई-फाई और स्कूलों को लेकर केजरीवाल के ऊपर दिल्ली की जनता से झूठे वादे करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि झूठे वादों की प्रतियोगिता हो तो केजरीवाल जीतेंगे।


केजरीवाल ने भी ट्वीट करके अमित शाह के सवालों का जवाब दे दिया। उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है आपको कुछ CCTV कैमरे तो दिखाई दिए। कुछ दिन पहले तो आपने कहा था एक भी कैमरा नहीं लगा। थोड़ा समय निकालिए, आपको स्कूल भी दिखा देते हैं। केजरीवाल ने वाईफाई के सवाल पर कहा कि सर, हमने फ्री वाईफाई के साथ साथ फ्री बैटरी चार्जिंग का भी इंतजाम कर दिया है। दिल्ली में 200 यूनिट बिजली फ्री है।


दिल्ली में नागरिकता कानून को लेकर हो रहे विरोध प्रदर्शन पर भी जंग छिड़ी हुई है। अभी तक आम आदमी पार्टी शाहीन बाग में चल रहे धरना प्रदर्शन से दूरी बनाए हुई थी। लेकिन अब दिल्ली डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने पार्टी का रुख साफ कर दिया है। केजरीवाल का तर्क है कि नागरिकता कानून पर उन्होंने अपना और पार्टी का रुख साफ कर दिया है। लेकिन उन्हें नहीं लगता कि दिल्ली के चुनाव में CAA का मुद्दा हावी रहेगा।


इन सबके बीच दिल्ली के चुनाव में पाकिस्तान की भी एंट्री हो गई है। आम आदमी पार्टी से बीजेपी में शामिल हुए कपिल मिश्रा ने ट्वीट किया कि 8 फरवरी को दिल्ली की सड़कों पर हिंदुस्तान और पाकिस्तान का मुकाबला होगा। चुनाव आयोग ने उनके खिलाफ नोटिस जारी किया है और कपिल से ट्वीट को हटाने का आदेश दिया है। लेकिन कपिल अपने बयान पर टिके हुए हैं।


दिल्ली के चुनावी मैदान में फिलहाल मैच आम आदमी पार्टी और बीजेपी के बीच दिख रहा है। लेकिन कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी गेम में है ही नहीं। सवाल ये है कि दिल्ली के लोगों के दिल में क्या है? केजरीवाल सरकार का काम इतना दमदार रहा है कि उन्हें जनता पूरे नंबर देगी? या दिल्ली में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाना और नागरिकता कानून जैसे मुद्दे हावी रहेंगे? और कहानी अगर इन मुद्दों पर शिफ्ट करती है तो क्या बीजेपी को इसका एडवांटेज मिलेगा? नागरिकता कानून पर धार्मिक ध्रुवीकरण होने पर मुसलमानों का वोट किसे जाएगा - आम आदमी पार्टी को या कांग्रेस को? इन्हीं सवालों पर आधारित है आवाज़ अड्डा की ये बड़ी बहस।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।