Moneycontrol » समाचार » राजनीति

आवाज़ अड्डा: अयोध्या में योगी का बड़ा आयोजन, क्या है निहितार्थ!

प्रकाशित Wed, 07, 2018 पर 16:39  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अयोध्या में छोटी दिवाली पर भव्य दीपोत्सव देखने लायक रहा, लेकिन मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने उस भव्य मूर्ति की चर्चा नहीं की जिसके लिए सप्ताह भर से माहौल बन रहा था वैसे अस्पताल, एयरपोर्ट और फैजाबाद का नाम बदलने जैसी कुछ घोषणाएं जरूर हुईं। लेकिन एक ऐसे वक्त में जब राम मंदिर पर हवा गर्म की जा रही है क्या योगी आदित्यनाथ का अयोध्या कार्यक्रम मंदिर अभियान को दम देगा।


दीपावली पर सजी-धजी अयोध्या नगरी सरयू के तट पर 3 लाख दियों का दीपोत्सव, भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम मनोरम झांकियां और देश-विदेश के गणमान्य मेहमान सब कुछ उम्मीद से बढ़कर लेकिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या को खुशखबरी देने की बात कहकर जो माहौल बनाया वो परवान नहीं चढ़ पाया। खबर ये थी कि सरयू तट पर भगवान राम की विशाल प्रतिमा की नींव रखी जाएगी लेकिन उसपर कोई बात नहीं हुई। वैसे राजा दशरथ के नाम पर एक मेडिकल कॉलेज और भगवान राम के नाम पर एयरपोर्ट की घोषणा जरूर की गई। योगी ने कहा कि वो जनकपुर जाएंगे और फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या करने की घोषणा भी की गई।


सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या विवाद की सुनवाई टलने के बाद से संघ परिवार के संगठन, बीजेपी के कई नेता और साधु संत राम मंदिर के लिए बेताब हो रहे हैं। 1992 जैसे आंदोलन की बात की जा रही है। अखिल भारतीय संत समिति ने तो खुला एलान कर दिया है कि सरकार मंदिर बनाने के लिए कानून बनाए या अध्यादेश लाए। उम्मीद थी कि दीपावली के बड़े आयोजन में योगी आदित्यनाथ भी इसपर कुछ बोलेंगे। लेकिन उन्होंने इशारों में सिर्फ इतना कहकर काम चला लिया कि अयोध्या के साथ कोई नाइंसाफी नहीं कर सकता।


सवाल उठता है कि क्या योगी आदित्यनाथ का ये बड़ा आयोजन राम मंदिर के लिए माहौल बनाने में मदद करेगा? क्या हम 2019 चुनाव तक ऐसे आयोजन होते देखेंगे ताकि उन लोगों की हौसले को बनाया रखा जा सके जिन्होंने मोदी और योगी सरकार राम मंदिर की उम्मीद लगा रखी है?