Moneycontrol » समाचार » राजनीति

आवाज़ अड्डा: राहुल के मोदी पर वार कितने असरदार

प्रकाशित Fri, 08, 2019 पर 08:46  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस और बीजेपी के बीच घमासान तेज हो गया है। नौबत यहां तक आ गई है कि बड़े नेता भी तू-तू, मैं-मैं पर उतर आए हैं। रॉबर्ट वाड्रा की ईडी के सामने पेशी से शुरू हुई जुबानी तल्खी आने वाले दिनों में और बढ़ने की आशंका है। वहीं प्रियंका गांधी के महासचिव बनने से कांग्रेस कार्यकर्ताओं में नया जोश भर गया है। अब उन्हें उत्तर प्रदेश में बड़े स्तर पर लॉन्च करने की तैयारी चल रही है। यूपी में प्रियंका सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनौती देती नजर आएंगी। सवाल ये है कि क्या प्रियंका गांधी के आने से कांग्रेस को फायदा होगा?


ये दो तस्वीरें बहुत कुछ बयान कर रही हैं। कांग्रेस में प्रियंका गांधी की महासचिव के तौर पर एंट्री ने कार्यकर्ताओं में उत्साह भर दिया है। वहीं दूसरी तरफ उनके पति रॉबर्ट वाड्रा पर एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट ने शिकंजा कस दिया है। ईडी रॉबर्ट वाड्रा से लंदन में प्रॉपर्टी खरीद के सिलसिले में पूछताछ कर रहा है। ईडी को इस मामले में मनी लॉन्ड्रिंग का शक है। इस सिलसिले में बीजेपी और कांग्रेस के बीच तल्खी बढ़ गई है। राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऊपर हमला तेज कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी रॉबर्ट वाड्रा को लेकर कांग्रेस पर हमला बोल दिया।


रॉबर्ट वाड्रा के ऊपर लगे आरोपों को लेकर बीजेपी लगातार कांग्रेस से सवाल पूछ रही है। वो पूरे गांधी परिवार को कटघरे में खड़ा कर रही है। बीजेपी कांग्रेस से पूछ रही है कि रॉबर्ट वाड्रा के संजय भंडारी और सुमित चड्ढा से कैसे संबंध हैं। राहुल के वार के जवाब में बीजेपी ने कांग्रेस के ऊपर पलटवार कर दिया है।


2014 के चुनाव प्रचार में बीजेपी ने रॉबर्ट वाड्रा के ऊपर तीखे हमले किए थे। अब फिर से लोकसभा चुनाव नजदीक आ गए हैं। नई बात ये है कि प्रियंका गांधी कांग्रेस की महासचिव बन गई हैं और उनके हाथों में पूर्वी उत्तर प्रदेश की कमान है। प्रियंका ने बुधवार को रॉबर्ट वाड्रा को ईडी के ऑफिस तक छोड़कर ये साफ कर दिया है कि वो लंबी लड़ाई के लिए तैयार हैं। इस लड़ाई में प्रियंका गांधी के सामने कई चुनौतियां हैं। सवाल ये है कि क्या प्रियंका गांधी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए बूस्टर डोज साबित होंगी? रॉबर्ट वाड्रा के ऊपर ईडी जिस तरह शिकंजा कस रहा है, क्या उससे प्रियंका की मुश्किलें बढ़ेंगी? और क्या रॉबर्ट वाड्रा प्रियंका के रास्ते का रोड़ा साबित होंगे? और सबसे बड़ा सवाल ये है कि क्या भाई-बहन की जोड़ी मोदी-शाह की जोड़ी को हरा पाएगी? इन्हीं मुद्दों पर हो रही है आवाज़ अड्डा का बढ़ी बहस।