Moneycontrol » समाचार » राजनीति

आज 11 बजे कर्नाटक के सीएम पद की शपथ लेंगे बसवराज बोम्मई, 3 डिप्टी सीएम भी साथ ग्रहण कर सकते हैं शपथ

कर्नाटक के पूर्व सीएम येदियुरप्पा के बेटे को भी पार्टी द्वारा अहम पद मिल सकता है
अपडेटेड Jul 28, 2021 पर 11:00  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री के रूप में आज यानी बुधवार को सुबह 11 बजे बसवराज बोम्मई शपथ लेंगे। सूत्रों के मुताबिक बोम्मई के साथ तीन उपमुख्यमंत्री भी शपथ लेंगे। कर्नाटक में गोविंद कारजोल, आर अशोक और श्रीरामलु उप मुख्यमंत्री बनेंगे और ये तीनों नेता बुधवार को सीएम के साथ ही शपथ ग्रहण करेंगे। वहीं मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा के बेटे प्रदेश उपाध्यक्ष वी वाय विजयेंद्र को भी पार्टी अहम भूमिका में ला सकती है।


भारतीय जनता पार्टी  ने कर्नाटक के अपने सबसे मजबूत नेता मौजूदा कार्यवाहक मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा का उत्तराधिकारी बसवराज बोम्मई का चयन किया है। बोम्मई भी येदियुरप्पा की तरह राज्य के सबसे प्रभावी समुदाय माने जाने वाले लिंगायत समुदाय से आते हैं।

भाजपा नेतृत्व अपने मजबूत समर्थक माने जाने वाले लिंगायत समुदाय से ही नेता चुनना चाहता था, हालांकि येदियुरप्पा का मत भिन्न था। बसवराज 2008 में जद (यू) से भाजपा में आए थे और तब से भाजपा की हर सरकार में मंत्री रहे हैं।


इस बीच कर्नाटक के मुख्यमंत्री बनने जा रहे बसवराज बोम्मई ने कहा कि मैंने राज्यपाल को विधायक दल के नेता के रूप में अपने चयन के बारे में बता दिया है। उन्होंने मुझे सरकार बनाने का का न्योता दिया है। हमने चर्चा करने के बाद निर्णय किया है कि मैं 11 बजे शपथ लूंगा। राज्यपाल कार्यालय के अनुसार शपथ ग्रहण समारोह राजभवन के ग्लास हाउस में होगा। इकसठ वर्षीय बोम्मई  बुधवार को वे अकले ही शपथ लेंगे। बता दें कि बोम्मई कर्नाटक के 23वें मुख्यमंत्री बनेंगे।


कर्नाटक के नये मुख्यमंत्री के रूप में बसवराज बोम्मई का नाम लेकर ही प्रभारी महासचिव अरुण सिंह व दोनों पर्यवेक्षकों केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान व जी किशन रेड्डी को पार्टी ने बंगलुरु भेजा था। इन नेताओं ने बोम्मई के नाम पर सहमति बनाई। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पूर्व सीएम येदियुरप्पा भी बसवराज के खिलाफ नहीं थे। लेकिन वे चाहते थे कि नया मुख्यमंत्री उनके लिंगायत समुदाय का ना हो ताकि वे लिंगायत समुदाय पर अपनी पकड़ बनाए रखें। वहीं केंद्रीय नेतृत्व लिंगायत समुदाय के नेता को ही राज्य की कमान सौंपना चाहता था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।