Moneycontrol » समाचार » राजनीति

आंध्र प्रदेश में सियासी पारा चढ़ा, चंद्रबाबू नायडू हुए बेटे के साथ नजरबंद

पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू को उनके घर नजर बंद कर दिया गया है। इससे नायडू ने घर पर ही भूख हड़ताल की घोषणा कर दी है।
अपडेटेड Sep 11, 2019 पर 15:22  |  स्रोत : Moneycontrol.com

आंध्र प्रदेश में सियासी उबाल जोरों पर है। राज्य में जगन रेड्डी सरकार के खिलाफ तेलुगू देशम पार्टी चीफ चंद्रबाबू नायडू विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इस पर पुलिस ने उन्हें उनके बेटे के साथ घर पर ही नजर बंद कर दिया है।


बता दें कि पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू राज्य के गुंटूर जिले में सरकार के विरेध में चलो आत्मकूरु नाम की रैली करने वाले थे। TDP राज्य सरकार के खिलाफ राजनीतिक हिंसा के आरोप में रैली कर रही थी। हालांकि राज्य की पुलिस ने रैली करने की अनुमति नहीं दी। साथ ही पुलिस ने धारा 144 लागू कर दिया। पुलिस ने TDP के कई कार्यकर्ताओं को नजरबंद कर दिया है। TDP चीफ जैसे ही सुबह घर से रैली के लिए निकलने वाले थे, पुलिस ने उन्हें रोक लिया। लिहाजा नायडू ने घर पर ही भूख हड़ताल की घोषणा कर दी है। नायडू के बेटे नर लोकेश को भी नजर बंद कर दिया गया है।


चंद्रबाबू नायडू की अगुवाई वाली पार्टी का दावा है कि राज्य में जगन रेड्डी सरकार आने के बाद YSRCP कैडरों ने TDP के आठ कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी है और आंध्र प्रदेश के पलनाडू क्षेत्र में हिंसा बढ़ रही है। इधर TDP के कार्यकर्ता हैदराबाद ऑफिस में आ रहे हैं और आरोप लगा रहे हैं कि जगन रेड्डी की पार्टी के कार्यकर्ताओं के हमले के कारण उन्हें अपने गांव से भागना पड़ रहा है।


आंध्र प्रदेश के गृहमंत्री मेकतोटि सुचरिता (Mekathoti Sucharitha) ने कहा कि सरकार TDP के नेताओं को राज्य में शांति भंग करने की अनुमति नहीं देगी। पुलिस ने लोगों से अपील की है कि ऐसी किसी भी गतिविधों में हिस्सा न लें, जिस इलाके में शांति भंग हो।
YSRCP पार्टी का कहना है कि राज्य में नायडू के पास कोई मुद्दा नहीं है और वो गलत धारणा बना रहे हैं।  


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।