Moneycontrol » समाचार » राजनीति

कर्नाटक के CM बीएस येदियुरप्पा ने मंत्रिमंडल का किया विस्तार, 7 नए मंत्रियों ने ली शपथ

कैबिनेट विस्तार को लेकर BJP में बवाल हो गया है, पार्टी के कुछ विधायकों ने खुली बगावत कर दी है
अपडेटेड Jan 14, 2021 पर 08:06  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कर्नाटक (Karnataka) के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ( BS Yediyurappa) ने बुधवार को आखिरकार अपने मंत्रिमंडल का विस्तार कर दिया। नए मंत्रिमंडल में सात नए मंत्रियों को शामिल किया गया है। नए कैबिनेट मंत्रियों के शपथ ग्रहण के दौरान मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा मौजूद थे। बुधवार को कुल सात नए सदस्यों MTB नागराज (MTB Nagaraj), उमेश कट्टी (Umesh Katti), अरविंद लिम्बावली (Aravind Limbavali), मुरुगेश निरानी (Murugesh Nirani), आर शंकर (R Shankar), सीपी योगीश्वर (CP Yogeeshwara) और अंगारा एस (Angara S) को बीएस येदियुरप्पा कैबिनेट में शामिल किया गया है।


हालांकि, कर्नाटक का कैबिनेट विस्तार विवाद के बिना नहीं हुआ। कैबिनेट विस्तार को लेकर BJP में बवाल हो गया है। BJP के कुछ विधायकों ने खुली बगावत कर दी है। विजयपुरा शहर से पार्टी के विधायक बसनगौड़ा पाटिल यतनाल ने मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि येदियुरप्पा को राजनीति से संन्यास ले लेना चाहिए, क्योंकि जो भी ब्लैकमेल करता है या पैसा देता है, उसे मंत्री बना दिया जाता है। उन्होंने कहा कि इसके लिए कोटा तय है।


बसनगौड़ा यतनाल ने कहा कि एक सीडी कोटा है और एक सीडी प्लस पैसा कोटा है। उन्होंने आगे बीएस येदियुरप्पा पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री को सीडी के जरिए ब्लैकमेल किया गया है। इसके अलावा BJP के एक और विधायक कालाकप्पा बंदी ने भी कैबिनेट विस्तार पर नाखुशी जताई है। उन्होंने कहा कि मैं पार्टी का वफादार सिपाही हूं। मैं मंत्रिमंडल विस्तार से खुश नहीं हूं। उन्होंने कहा कि इस पर ध्यान देने की जरूरत है।


सीएम येदियुरप्पा ने रविवार को नई दिल्ली में मंत्रिमंडल विस्तार की कवायद पर BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से बातचीत की थी। इसके बाद उन्होंने मंत्रिमंडल में सात नए चेहरे शामिल करने का संकेत दिया था। येदियुरप्पा लंबे समय से मंत्रिमंडल का विस्तार करना चाहते रहे हैं। BJP अध्यक्ष ने गत 18 नवंबर को नई दिल्ली में उनसे मुलाकात के दौरान इस कवायद के लिए केंद्रीय नेतृत्व की मंजूरी की प्रतीक्षा करने को कहा था। कर्नाटक कैबिनेट में मुख्यमंत्री समेत 27 मंत्री हैं और मंत्रिमंडल में 7 सदस्यों की जगह खाली थी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।