Moneycontrol » समाचार » राजनीति

Ayodhya Verdict: पूरी विवादित जमीन राम मंदिर के नाम, मुस्लमानों को 5 एकड़ जमीन कहीं और दी जाएगी

देश के सबसे बड़े भूमि विवाद का फैसला आया, अयोध्या की विवादित जमीन पर सिर्फ राम मंदिर बनेगा
अपडेटेड Nov 11, 2019 पर 10:33  |  स्रोत : Moneycontrol.com

राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद के विवादित जमीन के मामले का आज पटाक्षेप हो गया। देश के सबसे लंबे भूमि विवाद में सुप्रीम कोर्ट ने आज अपना अहम फैसला सुना दिया।


सुप्रीम कोर्ट ने 2.77 एकड़ की पूरी विवादित जमीन राम मंदिर को दे दी। सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या की विवादित जमीन राम मंदिर के लिए देने का फैसला किया है। इसके बदले में मुसलमानों को अयोध्या में ही किसी दूसरी जगह 5 एकड़ की जमीन दी जाएगी।


चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने यह फैसला पढ़ा। अपने फैसले में उन्होंने कहा कि अयोध्या की विवादित जमीन के बाहरी हिस्सों पर हिंदुओं का दावा साबित होता है। 1856 से पहले यहां कोई मुस्लिमों का गुंबद था, यह दावा साबिक नहीं होता। गोगोई ने कहा है कि अंदरूनी हिस्सा विवादित है।


चीफ जस्टिस ने कहा कि विवादित जमीन को छोड़कर अयोध्या में कहीं भी सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन बदले में दे दी जाए। इसी के साथ सुप्रीम कोर्ट ने पूरी विवादित जमीन राम लला के नाम करने का फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट के 5 जजों की बेंच ने एकमत से यह फैसला सुनाया है। अपने फैसले में कोर्ट ने निर्मोही अखाड़े का दावा भी खारिज कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि निर्मोही अखाड़े का दावा लिमिटेशन से बाहर है।


क्या होगा आगे?


चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि राम लला के लिए ट्रस्ट बनाया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि केंद्र सरकार 3 महीने में ट्रस्ट बनाकर मंदिर निर्माण का काम शुरू कर सकती है।


सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले के 9 साल बाद आया है। तब इलाहाबाद हाई कोर्ट के तीन जजों में से 2 जजों ने 2.77 एकड़ का विवादित जमीन तीन हिस्सों में बांटने के पक्ष में अपना फैसला सुनाया था। यानी पूरी विवादित जमीन राम लला, सुन्नी वक्फ बोर्ड और निर्मोही अखाड़े में बांट दिया जाए। इलाहाबाद हाई कोर्ट के लखनऊ बेंच ने पूरी विवादित जमीन पर हिंदू और मुस्लमानों को ज्वाइंट होल्डर बनाया था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।