Moneycontrol » समाचार » राजनीति

Farm Bills: BJP को लगा बड़ा झटका, अकाली दल ने तोड़ा NDA से 24 पुराना रिश्ता

अकाली दल ने वाजपेयी काल की बीजेपी से दोस्ती तोड़ ली है। कृषि बिलों के विरोध में पार्टी ने शनिवार को यह फैसला लिया
अपडेटेड Sep 28, 2020 पर 10:33  |  स्रोत : Moneycontrol.com

मोदी सरकार की ओर से लाए गए कृषि बिल को लेकर देशभर में विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं।  किसानों के साथ विपक्ष भी आंदोलन कर रहा है, वहीं अब भारतीय जनता पार्टी (BJP) के 24 साल पुराने गठबंधन सहयोगी शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal) ने एक और बड़ा झटका दे दिया है। कृषि बिल के विरोध में शिरोमणि अकाली दल ने NDA से 24  साल पुराना नाता तोड़ने का ऐलान कर दिया है। अकाली दल BJP के सबसे पुराने सदस्यों में से एक है और NDA के संस्थापक सदस्य हैं। इससे पहले पार्टी की नेता हरसिमरत कौर (Harsimrat Kaur) मोदी कैबिनेट से इस्तीफा दे चुकी हैं।   


बताया जा रहा है कि अकाली दल पंजाब में अपने जनाधार को लेकर काफी समय से चिंतित थी। अकाली का मुख्य वोटर किसान है, जो कृषि बिल को लेकर लगातार मोदी सरकार के खिलाफ पंजाब और हरियाणा में विरोध प्रदर्शन कर रहा है। ऐसे में अकाली दल पर इसे लेकर काफी समय से दबाव था, जिसके बाद शनिवार को पार्टी की कोर कमेटी (core committee) की आपातकालीन बैठक में NDA से अलग होने का फैसला लिया गया। अकाली दल और BJP का साल 1996 के संसदीय चुनावों के ठीक बाद दोनों दलों में गठबंधन हुआ था। इसके बाद से ही दोनों ने पंजाब में कई बार सरकार बनाई। पार्टी के नेता सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि पार्टी वर्कर्स के अलावा किसानों से सम्मति लेकर यह फैसला किया गया है।


इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक, अकाली दल ने कहा है कि MSP पर किसानों के उत्पाद की मार्केटिंग सुनिश्चित करने के अधिकार की रक्षा के लिए कानूनी विधायी गारंटी (statutory legislative guarantees) देने से केंद्र सरकार ने मना कर दिया। इसके कारण BJP के नेतृत्व वाले NDA गठबंधन से अलग होने का फैसला करना पड़ा। पंजाबी और सिख समुदाय से जुड़े मुद्दों को लेकर केंद्र सरकार की असंवेदनशीलता को देखते हुए ये फैसला किया गया है। बता दें कि NDA से नाता तोड़ने वाला अकाली दल तीसरी बड़ी पार्टी है। इससे पहले महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद पिछले साल शिवसेना गठबंधन से अलग हो गई थी। वहीं साल 2018 में NDA की पुरानी सहयोगी TDP ने भी BJP से हाथ छुड़ा लिया था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।