Moneycontrol » समाचार » राजनीति

मीडिया के सामने भावुक हुए फारूक अब्दुल्ला, कहा- Article 370 हटाना तानाशाही

फारूक ने कहा कि कश्मीर के लोगों ने लोकतांत्रिक और धर्मनिरपेक्ष भारत का साथ दिया था लेकिन ये लोकतांत्रिक भारत नहीं है
अपडेटेड Aug 06, 2019 पर 15:53  |  स्रोत : Moneycontrol.com

नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी के सीनियर लीडर फारूक अब्दुल्ला मंगलवार को हाउस अरेस्ट से बाहर आ गए। इसके बाद उन्होंने एनडीए सरकार के जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के फैसले पर पहली प्रतिक्रिया दी।


मीडिया से बात करते हुए फारूक अब्दुल्ला भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि सरकार ऐसा कैसे कर सकती है? कश्मीर के लोगों ने लोकतांत्रिक और धर्मनिरपेक्ष भारत का साथ दिया था लेकिन ये लोकतांत्रिक भारत नहीं है।


उन्होंने सरकार के इस फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि ये क्या हो रहा है? सरकार का ये फैसला तानशाही है। अब्दुल्ला ने कहा कि उन्होंने सपने में भी ऐसा नहीं सोचा था कि भारत कश्मीर के लोगों के साथ ऐसा करेगा। उन्होंने कहा कि ये लूट है। बीजेपी हर कश्मीरी से अलगाववादी की तरह बर्ताव कर रही है।


हाउस अरेस्ट किए जाने के सवाल पर फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि उन्हें नजरबंद किया गया था। उनके घर में किसी को भी आने नहीं दिया जा रहा था, वो अपनी बेटी के घर तक नहीं जा सकते थे।


वहीं उधर लोकसभा में एनसीपी की सांसद सुप्रिया सुले के इस सवाल पर कि फारूक अब्दुल्ला कश्मीर से सांसद हैं, तो वो सदन में क्यों नहीं हैं? उनके बिना यह बहस अधूरी रहेगी।


इस पर अमित शाह ने जवाब दिया कि अब्दुल्ला को न ही हिरासत में लिया गया है, न ही हाउस अरेस्ट किया गया है. वो अपनी मर्जी से अपने घर में हैं।