Moneycontrol » समाचार » राजनीति

पीएम मोदी पर टिप्पणी को लेकर हर्षवर्धन का हेमंत सोरेन पर निशाना, बोले- कोरोना से लड़िए, PM से नहीं

हेमंत सोरेन के उस ट्वीट पर वाकयुद्ध शुरू हो गया, जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर फोन पर बातचीत के दौरान केवल 'मन की बात' करने का आरोप लगाया था
अपडेटेड May 07, 2021 पर 21:34  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के तमाम वरिष्ठ नेताओं के बाद अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन (Dr Harsh Vardhan) ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के उस बयान को लेकर निशाना साधा है, जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से शिकायत की थी कि वो कोविड संकट को लेकर फोन कॉल के दौरान उनकी बात नहीं सुनते। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी से लड़ने के बजाय मुख्यमंत्री को कोरोना के खिलाफ लड़ाई पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।


गुरुवार को पीएम मोदी ने कोविड स्थिति को लेकर झारखंड, ओडिशा, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के मुख्यमंत्रियों से बात की थी। इसके बाद सीएम हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने गुरुवार आधी रात को प्रधानमंत्री के साथ टेलीफोन पर बातचीत के बारे में तंज कसते हुए ट्वीट किया, आदरणीय प्रधानमंत्री जी ने आज केवल अपने मन की बात की। यह बेहतर होता कि वे काम करने की बात करते और काम की बात सुनते।


केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्या मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने झारखंड के सीएम पर पलटवार करते हुए कहा कि श्री हेमंत सोरेन जी, शायद अपने पद की गरिमा को भूल गए हैं। कोविड-19 से उत्पन्न स्थिति को लेकर देश के PM पर कोई बयान देते समय उन्हें यह नहीं भूलना चाहिए कि इस महामारी का अंत सामूहिक प्रयासों से ही संभव है। अपनी नाकामी छिपाने के लिए अपने मन की भड़ास PM पर निकालना निंदनीय है।


केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि केंद्र सरकार ने कोरोना संकट काल में जहां ग़रीबों और ज़रूरतमंदों के लिए खज़ाने खोल दिए हैं, वहीं झारखंड सरकार ने, अपने खज़ाने का मुंह बंद कर रखा है। हेमंत सोरेन जी चाहते हैं कि हर काम केंद्र सरकार करे। कोरोना से लड़िए, PM से नहीं!


इसके अलावा असम के स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर कहा कि आपका ट्वीट ना केवल बुनियादी गरिमा के खिलाफ है, बल्कि राज्य के लोगों की पीड़ा का मजाक उड़ाने के लिए भी है, जिनके बारे में जानने के लिए प्रधानमंत्री ने आपको फोन किया था। आपने मुख्यमंत्री पद की गरिमा को कम किया है।


नागालैंड के मुख्यमंत्री नेफिउ रियो ने ट्वीट कर कहा कि कई शब्दों के लिए एक मुख्यमंत्री के रूप में मेरे अनुभव में, माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा राज्यों, विशेष रूप से पूर्वोत्तर की चिंताओं के प्रति संवेदनशील रहे हैं। मैं हेमंत सोरेन से असहमत हूं और मुझे उम्मीद है कि वह अपने बयान से मुकर जाएंगे।


झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और BJP के वरिष्ठ नेता बाबूलाल मरांडी ने ट्वीट किया, हेमंत सोरेन एक असफल मुख्यमंत्री हैं। शासन में विफलता। राज्य में कोविड से निपटने में विफल। लोगों की सहायता करने में विफल। अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए वह कार्यालय का संचालन करते हैं। हेमंत सोरेन उठो। घड़ी की सूई टिक टिक कर रही है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.