Moneycontrol » समाचार » राजनीति

अजीत पवार के सोशल मीडिया पर सरकारी तिजोरी से खर्च होंगे 6 करोड़, कोरोना में पैसों की फिजूलखर्ची

कोरोना काल में महाराष्ट्र के मंत्री द्वारा फिजूलखर्ची किये जाने का मामला प्रकाश में आया है
अपडेटेड May 13, 2021 पर 14:08  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना के संकट काल के दौरान महाराष्ट्र राज्य के मंत्रियों की फिजूलखर्ची का मामला सामने आया है। मिली जानकारी के अनुसार महाराष्ट्र का उप मुख्यमंत्री अजीत पवार के सोशल मीडिया के के लिए करीब 6 करोड़ रुपये खर्च किये जाने वाले हैं। अजीत पवार का सोशल मीडिया नेटवर्क हैंडल करने के लिए एक कंपनी की नियुक्ति की जायेगी और उसके लिए 6 करोड़ रुपये खर्च करने का प्रावधान किया गया है। कोरोना काल में पैसों की फिजूलखर्ची से लोगों में नाराजगी है।


महाराष्ट्र टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक सोशल मीडिया पर अपनी लोकप्रियता बढ़ाने के लिए और लिये गये सभी फैसलों की सूचना नागरिकों तक पहुंचाने के लिए अजीत पवार के सोशल मीडिया के लिए 6 करोड़ रुपये खर्च करने का प्रावधान किया गया है। इसके लिए एक बाहरी कंपनी को नियुक्त किया गया है और वह कंपनी अब पवार के मीडिया एकाउंट को हैंडल करने वाली है।


महाराष्ट्र विकास आघाड़ी सरकार की ओर से सोशल मीडिया पर खर्च के लिए 6 करोड़ रुपये की मंजूरी दी गई है। इसमें ट्विटर, फेसबूक, यूट्यूब, इन्स्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया चैनल पर सरकार और पार्टी द्वारा लिये गये निर्णय तुरंत पोस्ट करने के लिए और नागरिकों तक पहुंचाने के लिए ये प्रयास शुरू किया गया है।


सिर्फ अजीत पवार ही नहीं बल्कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के सोशल मीडिया के लिए भी पैसे खर्च किये जाने की जानकारी दी गई है। इस बीच इन सभी मुद्दों को लेकर विरोधियों ने सरकार को घेरा है। विपक्ष का कहना है कि राज्य में अपने खुद के जनसंपर्क कार्यालय होने के बावजूद बाहरी कंपनी की पीआर दिया गया है। इसका मतलब अपने नौजवानों को नौकरी का अवसर नहीं दिया गया।


इतना ही नहीं कोरोना के संकट के दौरान लोगों पर भूखमरी की नौबत आन पड़ी है ऐसे में सिर्फ सोशल मीडिया के लिए 6 करोड़ रुपये खर्च किये जायेंगे तो आम जनता का क्या होगा। ऐसा सवाल उठाया जा रहा है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।