Moneycontrol » समाचार » राजनीति

महाराष्ट्र में सरकार का फॉर्मूला तैयार, अब बन जाएगी सरकार?

महाराष्ट्र में सरकार बनाने की जद्दोजहद तेज हो गई है। शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस में बैठकों का दौर चल रहा है।
अपडेटेड Nov 17, 2019 पर 15:47  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

महाराष्ट्र में सरकार बनाने का रास्ता निकल गया है, कांग्रेस, शिवसेना और NCP के बीच एक साझा कार्यक्रम यानी कॉमन मिनिमम प्रोग्राम बन गया है और इसी के आधार पर सरकार काम करेगी, हालांकि अभी तक ये खुलासा नहीं हुआ है कि ये कॉमन मिनिमम प्रोग्राम क्या है, और शिवसेना की ओर से CM कौन होगा, लेकिन ताजा खबर ये है कि शरद पावर जल्द सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगे और आगे की रूपरेखा तय होगी, आज आवाज अड्डा में इसी पर चर्चा करेंगे कि ये सरकार कितनी टिकाऊ होगी और शिवसेना अपने कट्टर हिंदुत्व के एजेंडे से कितना दूर होगी और जनता का सामना कैसे करेगी।


महाराष्ट्र में सरकार बनाने की जद्दोजहद तेज हो गई है। शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस में बैठकों का दौर चल रहा है। सरकार बनाने के नए-नए फॉर्मूले बनाए जा रहे हैं। शिवसेना के साथ कैसे हाथ मिलाया जाए, इसके लिए एक कॉमन मिनिमम प्रोग्राम तैयार हो गया है जिस पर लगभग सहमति बन गई है। इस पर एनसीपी को कांग्रेस के जवाब का इंतजार है। हालांकि शरद पवार का भरोसा बता रहा है कि शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की सरकार बनकर रहेगी।


मुख्यमंत्री पद के मुद्दे पर शिवसेना ने बीजेपी के साथ नाता तोड़ा था। लेकिन नए गठबंधन में उसकी मांग पर बात बनती दिख रही है। एनसीपी शिवसेना के सीएम पर राजी है।


शिवसेना के साथ रिश्ता जोड़ने के लिए कांग्रेस जल्दबाजी के मूड में नहीं है। एनसीपी चाहती है कि कांग्रेस सरकार में शामिल हो। इस पर कांग्रेस की सीनियर लीडरशिप में मंथन चल रहा है।


सीएम पद को लेकर जैसे-जैसे बात बनती दिख रही है, शिवसेना का कॉन्फिडेंस भी बढ़ रहा है। वो कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर मुहर लगाने के लिए तैयार है। अब तो संजय राउत 25 साल तक अपनी पार्टी का मुख्यमंत्री देख रहे हैं। महाराष्ट्र में नए गठबंधन को लेकर बीजेपी सवाल खड़े कर रही है। उसका माना है कि ये तिकड़ी ज्यादा दिन नहीं चलेगी।


लेकिन अब तक के घटनाक्रम से लगता है कि एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर शिवसेना की सरकार बनना तय है। सवाल है कि क्या ये गठबंधन पांच साल सरकार चला लेगा? सवाल ये भी है कि शिवसेना के उग्र राष्ट्रवाद और हिंदुत्व के साथ कांग्रेस कितना तालमेल बिठा पाएगी? कहानी में एक ट्विस्ट मुख्यमंत्री के नाम को लेकर भी आना बाकी है। और महाराष्ट्र की जनता को ये खिचड़ी सरकार कितनी पसंद आएगी?


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।