Moneycontrol » समाचार » राजनीति

भेदभाव का शिकार हुए थे दो मुस्लिम कर्मचारी, अब 2,75,000 डॉलर का जुर्माना देगी अमेरिका की यह बड़ी कंपनी

US की बड़ी मल्टीनेशनल कॉर्पोरेशन Halliburton को अपने वर्कस्पेस में भेदभाव का शिकार हुए मुस्लिम कर्मचारियों को मुआवजा देना पड़ेगा
अपडेटेड Oct 10, 2019 पर 09:51  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अमेरिका की अग्रणी मल्टीनेशनल कॉर्पोरेशन Halliburton को अपने वर्कस्पेस में भेदभाव का शिकार हुए मुस्लिम कर्मचारियों को मुआवजा देना पड़ रहा है।


कंपनी धार्मिक मान्यताओं के आधार पर भेदभाव के शिकार भारतीय और सीरियाई मूल के अपने दो मुस्लिम कर्मचारियों को 2,75,000 यूएस डॉलर का भुगतान करेगी।


अमेरिका के Equal Employ­ment Opportunity Commission (EEOC) ने इन दो कर्मचारियों के साथ धार्मिक भेदभाव को लेकर कंपनी पर मुकदमा दायर किया था। मुकदमे के अनुसार, भारतीय मूल के मीर अली और सीरियाई मूल के हसन स्नोबार के साथ कंपनी में गलत बर्ताव हुआ था।


मुकदमे में कहा गया कि स्नोबार ने अगस्त 2012 से कंपनी के साथ काम करना शुरू किया था। उसे कॉलीग्स अपमानजनक संबोधनों से बुलाते थे और आतंकवादी संगठन ISIS से जोड़ते थे। अली को भी इसी तरह के माहौल से गुजरना पड़ा था।


आयोग ने कहा कि जब स्नोबार ने इससे परेशान होकर मैनेजमेंट एंड ह्यूमन रिसोर्स ऑफिस के सामने शिकायत दर्ज की तो उसे नौकरी से निकाल दिया गया।


केस हारने के बाद कंपनी इसके हर्जाने के तौर पर दोनों को 2,75,000 डॉलर देने पर सहमत हुई है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।