Moneycontrol » समाचार » राजनीति

हॉन्गकॉन्ग ने विवादित प्रत्यर्पण बिल वापस लिया, लेकिन अन्य कोई मांग स्वीकार नहीं

हॉन्गकॉन्ग की चीफ एग्जिक्यूटिव कैरी लैम ने विवादित प्रत्यर्पण बिल को औपचारिक तौर पर वापस ले लिया है
अपडेटेड Sep 04, 2019 पर 20:13  |  स्रोत : Moneycontrol.com

हॉन्गकॉन्ग की चीफ एग्जिक्यूटिव कैरी लैम ने विवादित प्रत्यर्पण बिल को औपचारिक तौर पर वापस ले लिया है। इस बिल के खिलाफ पिछले कई महीनों से लोग विरोध प्रदर्शन कर रहे थे।


कैरी लैम को बीजिंग का सपोर्ट है। बुधवार को अपने एक प्री-रिकॉर्डेड टेलीविजन स्टेटमेंट के जरिए उन्होंने यह बिल वापस लेने का ऐलान किया।


इस बिल के तहत हॉन्गकॉन्ग में अगर कोई शख्स किसी अपराध का दोषी पाया जाता तो उसका प्रत्यर्पण मेनलैंड चाइना में कर दिया जाता। हॉन्गकॉन्ग में रहने वाले लोग इस प्रत्यर्पण का विरोध कर रहे थे। हॉन्गकॉन्ग,  चीन का अर्द्धशासित इलाका है।


इस फैसले का विरोध करने वाले प्रदर्शनकारी इस मामले में स्वतंत्र जांच और लैम के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। उनका आरोप है कि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों के साथ बेरहमी से अत्याचार किया है। इसके साथ ही वे चाहते हैं कि उन्हें दंगाई ना कहा जाए।


हालांकिस लैम ने कहा कि वह स्वतंत्र जांच सहित उनकी कोई मांग नहीं मानेंगी। हालांकि पुलिस के दो अधिकारियों की नियुक्ति इस मामले में जांच के लिए की गई है। प्रदर्शनकारी यह भी मांग कर रहे हैं कि प्रदर्शन के दौरान जिन लोगों को हिरासत में लिया गया था, उनपर बिना कोई चार्ज लगा छोड़ दिया जाए। लेकिन लैम ने कहा यह मांग नहीं मानी जा सकती है। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।