Moneycontrol » समाचार » राजनीति

लोकसभा स्पीकर चुनाव: जानिए किसे मिलेगी सुमित्रा महाजन की कुर्सी

प्रकाशित Mon, 17, 2019 पर 16:28  |  स्रोत : Moneycontrol.com

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल की संसदीय परीक्षा आज से शुरु हो गई है। यह परीक्षा की घड़ी 17 जून से शुरु होकर 26 जुलाई तक चलेगी। इस बार सबकी निगाहें टिकी हुई है कि लोकसभा अध्यक्ष की कुर्सी किसे मिलेगी। कई वरिष्ठ सांसदों पर कयास लगाए जा रहे हैं, हालांकि ये कितना सच होगा ये 19 जून के बाद ही पता चलेगा।


 लेकिन कुछ ऐसे नाम हैं जो लोकसभा स्पीकर के रेस में सबसे आगे चल रहे हैं। इनमें राधामोहन सिंह, जुएल ओराम, मेनका गांधी, पीपी चौधरी जैसे नाम सबसे गे चल रहे हैं।


जुएल ओराम :- मोदी सरकार 1 में जनजातीय मामलों के मंत्री के रूप में जिम्मेदारी संभालने चुके जुएल ओराम को भी लोकसभा अध्यक्ष पद का मजबूत दावेदार बताया जा रहा है। जुएल को नए मंत्रिमंडल में स्थान नहीं मिल पाया है। जुएल ओराम ओड़िशा के सुंदरगढ़ लोकसभा सीट से जीतकर आये हैं।


राधा मोहन सिंह:- राधामोहन सिंह भी छह बार सांसद का चुनाव जीत चुके हैं और उन्हें भी अध्यक्ष पद के लिए एक मजबूत दावेदार माना जा रहा है। सिंह की संगठन पर गहरी पकड़ है साथ ही उनकी छवि विनम्र और सबको साथ लेकर चलने वाले नेता की है। लोकसभा अध्यक्ष पद के लिए बीजेपी राधामोहन सिंह के नाम को आगे बढ़ा सकती है। माना जा रहा है कि उन्हें विपक्ष का भी साथ मिल सकता है। सिंह ने कहा है कि ये उनका आखिरी लोकसभा चुनाव है। ऐसे में पार्टी सिंह के नाम पर मुहर लगा सकती है।


पीपी चौधरी:- राजस्थान की पाली लोकसभा सीट पर बीजेपी उम्मीदवार पीपी चौधरी ने कांग्रेस के बद्रीराम जाखड़ को हरा कर लोकसभा में आए हैं। पीपी चौधरी मोदी सरकार के के पहले कार्यकाल में कॉरपोरेट मामलों के राज्य मंत्री रह चुके हैं। चौधरी संसदीय स्थाई समिति के सदस्य भी रह चुके हैं। वो संसदीय नियमों और प्रकियाओं से भलीभांति वाकिफ हैं।


मेनका गांधी:- पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी आठवीं बार लोकसभा सदस्य चुनी गई हैं। ऐसे में वह बीजेपी की सबसे अनुभवी लोकसभा सदस्य हैं और अध्यक्ष पद के लिए एक स्वाभाविक विकल्प मानी जा रही हैं। मोदी सरकार की कैबिनेट में उन्हें मंत्री नहीं बनाया गया है, जिसके चलते यह माना जा रहा है कि मेनका गांधी के नाम पर मुहर लगने की उम्मीद बढ़ गई है।