Moneycontrol » समाचार » राजनीति

इस राजनीतिक पार्टी के पास है सबसे ज्यादा कैश

सबसे ज्यादा बैंक बैलेंस वाली यह क्षेत्रीय पार्टी है
अपडेटेड Apr 15, 2019 पर 14:34  |  स्रोत : Moneycontrol.com

लोकसभा चुनाव हो या विधानसभा का चुनाव हो, राजनीतिक पार्टियां वोटरों का दिल जीतने के लिए जमकर पैसा बरसाती हैं। राष्ट्रीय पार्टियों के साथ-साथ क्षेत्रीय पार्टियां भी चुनावों में पैसे उड़ाने से पीछे नहीं रहती हैं।


एक रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी या BSP और समाजवादी पार्टी यानी SP के पास बहुत ज्यादा कैश है। आधिकारिक रिकॉर्ड के मुताबिक, किसी भी राजनीति पार्टी के मुकाबले BSP के पास सबसे ज्यादा बैंक बैलेंस हैं। चुनाव आयोग को सौंपी खर्चों की रिपोर्ट के मुताबिक, NCR में BSP के 8 बैंकों में BSP के 669 करोड़ रुपए हैं। पार्टी के पास 95।54 लाख रुपए कैश है।


दूसरे नंबर पर समाजवादी पार्टी है। इसके बैंक खातों में 471 करोड़ रुपए हैं। मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और तेलंगाना के विधानसभा चुनावों के बाद इसमें मामूली गिरावट आई है। नवंबर से दिसंबर 2018 के बीच 4 विधानसभा चुनावों के बाद SP के बैंक बैलेंस में 11 करोड़ रुपए की कमी आई थी। दूसरी तरफ BSP जिसने चुनावों के दौरा 24 करोड़ चंदा जुटाया था। उसका बैंक बैलेंस 5 करोड़ रुपए बढ़ गया।


तीसरे नंबर पर कांग्रेस है। पार्टी के पास 196 करोड़ रुपए का बैंक बैलेंस है। वैसे मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावों में जीत हासिल करने के बाद कांग्रेस ने चुनाव आयोग को कोई अपडेट नहीं भेजा है।


चौथे नंबर पर तेलगु देशम पार्टी है जिसके पास 107 करोड़ रुपए का बैंक बैलेंस है। 82 करोड़ रुपए के साथ BJP पांचवें नंबर पर है।


एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स इन राजनीतिक पार्टियों के इनकम टैक्स रिटर्न का एनालिसिस करती है। इसके मुताबिक, 2016-17 के बीच BJP को चंदे से सबसे ज्यादा 1034 करोड़ रुपए की आमदनी हुई। 2017-18 के लिए यह रकम 1027 करोड़ रुपए रही।


इस दौरान BSP की आमदनी 174 करोड़ रुपए से गिरकर 52 करोड़ रुपए पर आ गई। 2016-17 के दौरान कांग्रेस की आमदनी 225 करोड़ रुपए थी। इसके बाद कांग्रेस ने अपनी आमदनी का कोई ब्योरा नहीं दिया है।
रिपोर्ट के मुताबिक, पार्टियों की 87 फीसदी आमदनी स्वैच्छिक चंदे से हुई है। 2017-18 में सिर्फ BJP ने यह जाहिर किया कि चुनावी बॉन्ड से उसने 210 करोड़ रुपए जुटाए हैं।