Moneycontrol » समाचार » राजनीति

महाराष्ट्र में महासंग्राम, क्या फिर बनेगी फड़णवीस सरकार!

महाराष्ट्र अब वोट करने के लिए तैयार है और हवा साफ इशारा कर रही है कि क्या होने वाला है।
अपडेटेड Oct 21, 2019 पर 10:06  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

महाराष्ट्र अब वोट करने के लिए तैयार है और हवा साफ इशारा कर रही है कि क्या होने वाला है। नेताओं के लिए चुनाव सिर्फ एक सरकार बनाने और हटाने का खेल हो सकता है लेकिन आम लोगों के लिए, हमारे आपके लिए चुनाव लोकतंत्र की सबसे बड़ी आवाज़ है। इसलिए जरूरी है कि अब तक के प्रचार अभियान और वोटिंग को इस नजरिए से भी टटोला जाए कि इसमें जनता की आवाज़ कितने दमदार तरीके से सामने आ रही है।


महाराष्ट्र का चुनावी दंगल अंतिम दौर में आकर काफी दिलचस्प हो गया है। बीजेपी-शिवसेना और कांग्रेस-NCP गठबंधन के बीच टकराव बढ़ गया है। बीजेपी राष्ट्रवाद को हथियार बनाकर विपक्षी पार्टियों पर लगातार हमले कर रही है। बीजेपी ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने को बड़ा मुद्दा बना लिया है। गृह मंत्री और बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह 370 पर कांग्रेस-NCP से सवाल पूछ रहे हैं।


बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में वीर सावरकर को भारत रत्न देने का वादा करके राष्ट्रवाद के मुद्दे को और हवा दे दी है। कांग्रेस सावरकर को भारत रत्न देने के वादे पर सवाल खड़े कर रही है। न्यूज18 नेटवर्क के साथ खास बातचीत में मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने अपने फैसले को सही बताया है।


अनुच्छेद 370 और सावरकर के मुद्दे से बीजेपी का भरोसा बढ़ गया है। न्यूज18 नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ राहुल जोशी के साथ खास बातचीत में अमित शाह महाराष्ट्र में दो तिहाई बहुमत मिलने की उम्मीद जता रहे हैं।


उधर कांग्रेस-एनसीपी बीजेपी से रोजगार, इकोनॉमी और किसानों के मुद्दे पर सवाल पूछ रही हैं। कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी लोगों का ध्यान भटकाने के लिए 370 और सावरकर को मुद्दा बना रही है। AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी भी सावरकर को लेकर बीजेपी की आलोचना कर रहे हैं।


21 अक्टूबर को महाराष्ट्र में वोटिंग है। सवाल ये है कि क्या महाराष्ट्र के चुनाव में बीजेपी को 370 और सावरकर के मुद्दे पर वोट मिलेंगे? चुनाव में राष्ट्रीय मुद्दे स्थानीय मुद्दों पर हावी हो गए हैं? क्या विपक्ष के पास राष्ट्रवाद के मुद्दे की काट है? या अब भी मोदी की लहर है जिस पर सवार होकर फड़णवीस की नैया फिर पार हो जाएगी? आवाज़ अड्डा में इन्हीं सवालों पर हो रही है बड़ी बहस।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।