Moneycontrol » समाचार » राजनीति

क्या महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की कोशिश कर रही है कांग्रेस?

महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता बालासाहेब थोराट, अशोक च्वहाण और पृथ्वीराज चव्हाण दिल्ली सोनिया गांधी से मिलने आए है
अपडेटेड Nov 02, 2019 पर 14:25  |  स्रोत : Moneycontrol.com

महाराष्ट्र में सरकार बनाने की दिशा में लगातार अनिश्चितता बनी हुई है। शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी लगातार अपनी-अपनी जिद पर अड़ी हुई हैं। ऐसे में अब उड़ती-उड़ती खबरें यह भी उड़ने लगी हैं कि इस स्थिति में कांग्रेस और एनसीपी भी सरकार बनाने के विचार को जगह दे रही हैं और राजनीतिक नेताओं की हलचल देखकर ऐसा लग भी रहा है।


दरअसल, गुरुवार को महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता बालासाहेब थोराट, अशोक च्वहाण और पृथ्वीराज चव्हाण दिल्ली आए हैं। फाइनेंशियल एक्सप्रेस ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि कि वो कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने आए हैं, जहां विपक्ष की मदद से शिवसेना के सरकार बनाने की संभावनाओं पर बातचीत हो सकती है।


इस संभावना को इसलिए भी मजबूती मिल रही है क्योंकि ये तीन कांग्रेस नेता गुरुवार को दिन में NCP चीफ शरद पवार से मिलने उनके आवास पर गए थे। सूत्रों का कहना है कि वो यह मीटिंग इसलिए करने आए हैं क्योंकि पवार ने उनसे हालिया स्थिति और आगे के कदमों पर कांग्रेस के आलाकमान से राय लेने को कहा था।


महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में इस बार BJP को 105 और शिवसेना को 56 सीटों के साथ संतोष करना पड़ा। इसके बाद सीएम की कुर्सी को लेकर दोनों पार्टियों के बीच खींचतान बढ़ गई है। 24 अक्टूबर को नतीजे के बाद ही कांग्रेस-NCP की तरफ से ऐसे बयान अनौपचारिक तौर पर आ रहे हैं कि शिवसेना BJP से अलग भी कुछ विकल्प तलाश रही है।


बता दें कि शिवसेना 50-50 फॉर्मूले पर सरकार बनाना चाहती है, इसमें आधे-आधे कार्यकाल के लिए मुख्यमंत्री पद भी शेयर करना शामिल है। शिवसेना बीजेपी से ढाई सालों से यह मांग कर रही है लेकिन बीजेपी ऐसा नहीं करना चाहती। इस बार जब चुनावों में शिवसेना किंगमेकर की स्थिति में आ गई है तो वो अपनी मांग मंगवाने पर अड़ी हुई है।


इसबीच NCP अध्यक्ष शरद पवार ने कहा है कि राज्य में जल्द से जल्द सरकार बन जानी चाहिए। न्यूज 18 नेटवर्क से एक्सक्लूसिव बातचीत में शरद पवार ने कहा कि बीजेपी को शिवसेना को मनाने के लिए मुख्यमंत्री का पद दे देना चाहिए। उन्होंने ये भी कहा कि फिफ्टी-फिफ्टी पर जो बात शिवसेना कह रही है उसमें सच्चाई है।


इधर सूत्रों से खबर मिल रही है कि BJP, शिवसेना को डिप्टी सीएम का पद देने को तैयार है लेकिन इसके बाद भी बात नहीं बन रही क्योंकि फिफ्टी-फिफ्टी फॉर्मूले को लेकर शिवसेना झुकने को तैयार नहीं है। शिवसेना ने बीजेपी को धमकी भरे लहजे में कहा है कि अगर शिवसेना ने ठान लिया तो वो बहुमत भी जुटा सकती है लेकिन जो बात जनता से सामने हुई थी उसका क्या। अगर बात नहीं बनती तो हमारे पास कोई विकल्प नहीं बचता।



सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।